Skip to main content

Posts

इलाज ; दिल की धड़कन की बीमारी का

web - gsirg.com helpsir.blogspot.in

इलाज ; दिल की धड़कन की बीमारी का हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार के महत्वपूर्ण अंग हैं | इन महत्वपूर्ण अंगों में हृदय का प्रमुख स्थान है | यह शरीर के भीतर ,छाती के बाई ओर स्थित होता है | इस स्थान पर हाथ रख कर दिल की धड़कन का अनुभव किया जा सकता है | अगर हम यहां कान लगाकर सुने तो हमे दिल के धड़कन की आवाज भी साफ साफ सुनाई देगी | एक स्वस्थ व्यक्ति का हृदय नियमित रूप से 1 मिनट में लगभग 72 बार धड़कता है | यह धड़कन एक नियमित समय अंतराल पर होती रहती है | यदि इस समय अंतराल में अनियमितता मिले तब जान लेना चाहिए कि उस व्यक्ति को दिल धड़कन की बीमारी है |
रोग विचार जब किसी कारण से दिल की धड़कन कम या ज्यादा हो जाती है , और नियमित रूप से होती रहती है | तब व्यक्ति इस रोग से पीड़ित हैं , यह जान लेना चाहिए | ऐसी अवस्था में दिल की धड़कन का नियमित रूप से बढ़ते जाना या कम होते जाना दोनों ही स्थितियां चिंता का विषय बन जाती है | कभी-कभी तात्कालिक प्रभाव से भी धड़कन बढ़ या घट जाया करती है |तथा अपन…
Recent posts

इलाज ; कुष्ठ रोग जानकारी और बचाव

web - gsirg.com
इलाज ; कुष्ठ रोग जानकारी और बचाव

यह एक घृणित रोग है | इस रोग में आदमी के शरीर के अंगों का गलना शुरू हो जाता है | इस रोग से प्रभावित अंगों से दुर्गंधयुक्त मवाद निकलने लगती है , धीरे-धीरे रोगी के यह अंग गल गल कर बहने लगते हैं | रोग की चरमावस्था पर धीरे-धीरे के अंग शरीर से गायब या समाप्त हो जाते हैं | जिसके कारण कोई अन्य व्यक्ति उसके पास उठता बैठता या खाता पीता नहीं है | इसके अलावा वह रोगी से किसी प्रकार का संबंध भी नहीं रखना चाहता है | दूसरे शब्दों में अगर कहा जाए तो लोग ऐसे रोगी को घृणा की दृष्टि से देखते हैं | इस रोग का रोगी स्वयं भी अपने आप से घृणा करने लगता है , कभी-कभी तो रोगी रोग से परेशान होकर आत्महत्या करने का विचार भी करने लगता है |

कुष्ठ हर चूर्ण बनाना

कुष्ट के रोगी को चाहिए कि वह अपने रोग से निजात पाने के लिए यह चूर्ण बना ले | इसके लिए रोगी को बकायन नामक वृक्ष के बीज इकट्ठा करना होता है | इन बीजों की मात्रा जब 2 किलो ग्राम के लगभग हो जाए , तब इनकी साफ-सफाई कर ले , ताकि उन पर लगी धूल मिट्टी आदि निकल जाए | अब इन बीजों की आधी मात्रा यानी 1 किलो बीज…

Treatment ; Heart beat disease

web - gsirg.com                                       helpsir.blogspot.in


Treatment ; Heart beat disease
       There are various types of vital components in our body. The heart is the main place in these vital organs. It is located inside the body, on the left side of the chest. Heart beats can be experienced by keeping hands on this place. If we listen to the ears here, then the voice of the heart beats will be heard clearly. The heart of a healthy person regularly beats about 72 times in 1 minute. This beats are done at a regular time interval. If there is irregularity in this time interval, then it should be realized that the person has heart beatness.

    Disease thought

       When for some reason the heartbeat decreases or decreases, and keeps on happening regularly. Then the person is suffering from this disease, should know this. In such a condition, increasing or decreasing heartbeats regularly becomes a matter of concern. Occasionally, with the immediate effect, the heartbe…

Treatment ; Leprosy information and prevention

web - gsirg.com      helpsir.blogspot.in


Treatment ; Leprosy information and prevention

This is a disgusting disease. In this disease, the body parts of the body starts melting. The odorless pus comes out from the affected organs of this disease, gradually this part of the patient starts flowing and melts. On the climax of the disease, the organs gradually disappear or disappear from the body. Because of which no other person would wake up or drink it. Apart from this, he also does not want to have any connection with the patient. In other words, if you are told, people see such a patient with hatred. The patient of this disease himself also hates himself, sometimes even with the patient suffering from the disease, he starts thinking of suicide.


 Make every powdered leprosy


The diseased patient should take this powder to get rid of his disease. For this, the patient has to collect the seeds of the tree called the alum. When the quantity of these seeds is about 2 kg, then clean them, so…

धर्म

web - gsirg.com helpsir.blogspot.in धर्म 


------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

Web - GSirg.com
दुख की आवश्यकता इस नश्वर संसार के जन्मदाता परमपिता ईश्वर ने अनेकों प्रकार के प्राणियों की रचना की है |इन सभी रचनाओं में मानव को सर्वश्रेष्ठ माना गया है |इस संसार का प्रत्येक मनुष्य अपना जीवन खुशहाल और सुख में बिताना चाहता है , जिसके लिए वह अनेकों प्रकार की प्रयत्न करता रहता है | इसी सुख की प्राप्ति के लिए प्रयास करते हुए उसका संपूर्ण जीवन बीत जाता है | यहां यह तथ्य विचारणीय है कि क्या मनुष्य को अपने जीवन में सुख प्राप्त हो पाते हैं | क्या मनुष्य अपने प्रयासों से ही सुखों को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त कर पाता है | यह एक विचारणीय प्रश्न है |
सुख और दुख एक सिक्के के दो पहलू
वास्तव में देखा जाए तो प्रत्येक मानव के जीवन में सुख और दुख दोनों निरंतर आते-जाते ही रहते हैं | सुख के बाद दुख और दुख के बाद सुख की पुनरावृत्ति होती ही रहती है | यह प…

चमत्कारी सफ़लतायें

web - gsirg.com  helpsir.blogspot.in

सफलता 
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------


web - gsirg.com
सफलता देने वाली तथा धन वर्षिणी साधनाएं [ भाग 2 ]

पाठको आपने इसके प्रथम भाग में पढा होगा कि सात्विक भाव से की गई साधनाएं , व्यक्ति को हर क्षेत्र में सफलता दिला सकती हैं | अगर व्यक्ति अपनी इच्छा की पूर्ति के लिए सतत प्रयास करे , इसमें दो राय नही है कि उसे सफलता न मिले | इस संसार में कर्म ही प्रधान है , तथा सात्विक भाव से की गई साधना कभी बेकार नहीं जाती है | आपने अपने आसपास ऐसे व्यक्तियों को देखा होगा , जिनका जीवन अभावों से भरा रहा है , परंतु अचानक उनका भाग्य पलट जाता है , और वे सब प्रकार की कठिनाइयों से मुक्त होकर , हर तरह के वैभव का लाभ उठाते हैं | वस्तुतः ऐसे लोगों के कर्म और उनके द्वारा की गई साधनाएं ही उनके जीवन में यह सफलताएं दिलवाती हैं | इन साधनों की पूर्ति के बाद , व्यक्ति की वह हर इ…