Skip to main content

इलाज ; मुंह का लकवा [1 /1 ]

Web - GSirg.com

इलाज ; मुंह का लकवा [1 /1 ]

हमारे शरीर में अनेकों प्रकार की गंभीर से गंभीरतम बीमारियां हो सकती है , तथा हो भी जाती है |ऐसी ही गंभीर बीमारियों मुंह का लकवा भी एक बीमारी है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति का मुंह टेढ़ा हो जाता है। जिसके कारण उसका चेहरा कुरूप दिखाई पड़ने लगता है। परिणाम स्वरुप आदमी को अपने जीवन में कष्ट और ग्लानि काअनुभव होने लगता है। यह एक ऐसी व्याधि है , जो रोगी को अचानक ही हो जाती है। इस रोग का पता रोगी को पहले से नहीं हो पाता है |
\\रोग के कारण \\
जो लोग हरदम ऊंची आवाज में बात करते हैं , अर्थात जोर जोर से बोलते हैं , जोर जोर से हंसते है या फिर ऐसे लोग जिन्हें जन्भाइयाँ अधिक आती हैं तथा भारी बोझ उठाना पड़ता है , उनको यह रोग आसानी से हो जाता है। ऐसे व्यक्ति सदा कठिन भोजन करते हैं , और ऐसे लोग जिन्हे मजबूरी बस ऊंचे-नीचे स्थान पर विकृत शरीर की स्थिति में सोना पड़ता है। ऐसे लोगों के शरीर की वायु प्रकुपित होकर सिर , मस्तक , नाक होंठ और आंखों पर आ कर रुक जाती है। यह प्रकुपित वायु शरीर के जिस स्थान पर रुक जाती है , उस स्थान को प्रभावित कर विकृत बना देती है। जिसके परिणाम स्वरुप शरीर वह भाग टेढे मेढे हो जाते हैं

\\ रोग के लक्षण \\

जब शरीर में उत्पन्न हुई दूषित वायु प्रकुपित होकर मुंह पर रुक जाती है। उस समय उस व्यक्ति का मुंह टेढ़ा मेढ़ा हो जाता है , इसे ही मुंह का लकवा कहते हैं। इसमें रोगी की गर्दन एक और झुक जाती है , तथा कभी-कभी सिर भी हिलने लगता है। इस लकवे के कारण रोगी की बोलने की शक्ति कमजोर पड़ जाती है , जिसके कारण उसको बोलने में बहुत ही कष्ट होता है। उसके मुंह से सही शब्द नहीं निकल पाते हैं शब्दों के स्पष्ट रूप से ना निकल पाना तथा आंखों में पीड़ा और फड़कन होकर टेढ़ापन भी आ जाता है। इसी प्रकार नाक में भी पीड़ा और टेढ़ापन हो जाता है। शरीर के जिस भाग में यह लकवा हो जाता है उस ओर की गर्दन टेढ़ी हो जाती है , और ठोढ़ी तथा दाँत में पीड़ा होती है।
\\ लकवे काप्रारंभिकक रूप \\
जब किसी व्यक्ति को यह रोग होने वाला होता है , उस समय उसके शरीर में रोमांच होना , कँपकँपी होना , आंखों में मैल आना तथा वायु का ऊपर की ओर चढ़ना शुरू होता है। धीरे-धीरे शरीर की त्वचा में सुन्नता आ जाती है , और वहां पर सुई चुभने जैसी पीड़ा होने लगती है। इसके अलावा रोग की प्रारंभिक स्थिति में ग्रीवा के जिस ओर इसका प्रभाव पड़ता है उस ओर के जबड़े में जकड़न और अकडाहट सी हो जाती है
\\ योग के असाध्य लक्षण \\
इस रोग के असाध्य लक्षणों के बारे में आयुर्वेदाचार्य ने लिखा है , कि रोगी बहुत दुर्बल हो जाता है , उसकी पलकों में गति नहीं हो पाती है , और बोलने की सामर्थ्य भी खत्म हो जाती है। रोग की इस स्थिति को पहुंचा हुआ व्यक्ति चिकित्सा से ठीक नहीं किया जा सकता है। ऐसे रोगी व्यक्तियों के मुंह नाक और आँखों से पानी निकलने लगता है। रोगी के शरीर में हरदम कंपन बना रहता है। अगर ऐसी स्थितियां मिले तो समझ लेना चाहिए कि रोग असाध्य स्थिति को पहुंच चुका है। ऐसे रोगी को इलाज से ठीक कर पाना मुश्किल हो जाता है। इस रोग का ठीक करने का उपाय करें अगर सफलता मिल जाये तो आगे भी चिकित्सा जारी रखें अन्यथा इस को पिछले जन्म का कर्म फल समझकर इसका फल ईश्वर पर छोड़ देना चाहिए।
\\ रोग का रोग के प्रारंभिक उपाय \\
इस रोग का पता लगते ही रोगी को दूध में सोंठ उबाल कर देना प्रारम्भ कर दें , तथा नारियल के तेल को गर्म जल में डालकर नित्य कुल्ले करवाएं। इसके अलावा वायु को प्रदूषित करने वाले भोज्य पदार्थ और कार्य करने बंद कर दें। खट्टे पदार्थों का सेवन तो बिल्कुल ही ना करने दे। इसके अलावा रोगी के शरीर के जिस भाग में लकवा हो , उसे ओर एक जनेऊ इस प्रकार पहना दे। इसके बाद उस जनेऊ में शरीर के लकवे वाले भाग की ओर एक या दो जायफल बांध दें।
\\ औषधीय चिकित्सा \\
रोगी की चिकित्सा के पूर्व किसी पंसारी के यहां से दशमूल काढ़ा को बनाने वाली प्रयुक्त होने वाली दसों औषधियों की 100 ग्राम की मात्रा मे किसी पंसारी की दुकान से खरीद लें। प्रत्येक औषधि 10 - 10 ग्राम की मात्रा में ही लें। इन सभी औषधियों को 1 लीटर पानी उबालना शुरू करें जब पानी की मात्रा 200 ग्राम बचे , तब बर्तन को चूल्हे से उतार कर ठंडा कर करने लगे। जब पानी गुनगुना रह जाए तब इसमें दो चुटकी सेंधानमक और 50 ग्राम अरंड का तेल भी मिला दे। इस औषधि की आधी मात्रा सुबह और आधी मात्रा शाम को रोगी को देना प्रारंभ करें। औषधि रोज बनाएं और रोज भी नई बनाकर ही सेवन करें। इससे 8 या 10 दिन में चाहे जिस प्रकार का लकवा हो , ठीक हो जाता है।
\\ दूसरा उपाय \\
हड़ताल बर्कियः शुद्ध 10 ग्राम तथा काली मिर्च 40 ग्राम ले। अब किसी मजबूत खरल में हड़ताल को बारीक पीसना शुरू करें। इसमें एक-एक काली मिर्च भी डालते जाएं। जब सारी मिर्चें खत्म हो जाएं , उसके बाद भी लगभग 7 घंटे और घुटाई करें। इस बात का ध्यान दें कि जितना ही अधिक घुटने में मेहनत करेंगे , औषधि भी उतनी ही प्रभावशाली बनेगी , तथा उतना ही अधिक लाभ भी करेगी। अब इस औषधि का एक रत्ती चूर्ण 3 ग्रेन रससिन्दूर मिलाकर , किसी मुनक्के के बीज निकालकर , उसमें डालकर रोगी को प्रातः खिला दें। ऐसा ही औषधि का एक मुनक्का शाम को खिलाएं। इस औषधि के सेवन के 1 महीने बाद धीरे-धीरे लाभ मिलना शुरू हो जाएगा , तथा लकवा धीरे धीरे ठीक हो जाएगा। इस औषधि से रोगी के पूरी तरह से ठीक होने की पूरी गारंटी भी है।
उपरोक्त उपाय करके आप अपने रोगी को स्वयं की ठीक कर सकते हैं। चिकित्सा करने से पूर्व प्रत्येक बात को ध्यानपूर्वक पढ़ें , उसके बाद ही चिकित्सा करें , ताकि रोगी को निरोग होने में पूरी सफलता प्राप्त की जा सके।
\\ जय आयुर्वेद \\

Web - GSirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…