Skip to main content

धर्म ; जीवनसंग्राम में विजय प्राप्ति के उपाय [ 1 / 13 ]

             web - gsirg.com

\\ जीवनसंग्राम में विजय प्राप्ति का उपाय \\
    
    हमारा भूमंडल बहुत बड़ा है , इसमें अनेकों प्राणी निवास करते हैं | सभी प्राणियों में सबसे श्रेष्ठ मानव को माना गया है | परन्तु इस संसार में ऐसा कोई प्राणी नहीं है , जिसके जीवन में मुसीबतें  न हों | प्रत्येक प्राणी को अपने जीवन में विपत्तियों का सामना करना ही पड़ता है | क्योंकि दिन और रात के समान ही कालचक्र सदा घूमता रहता है , जिससे आज कोई बच नही पाया है | जिस प्रकार हर दिन के बाद रात आती है ठीक उसी तरह हर सुख के बाद दुख भी प्राणी केजीवन मैं आता रहता है | यह विपत्तियां एक प्रकार से मानव के धैर्य साहस , सहिष्णुता और आध्यात्मिकता की परीक्षा लेती हैं | जीवन के इस संग्राम में जो पुरुष अपनी मुसीबतों का निर्भीकता और दृढ़ता के साथ मुकाबला कर पाता है , उसे ही इस जीवन के संग्राम में विजय प्राप्त होती है , उसे ही सफल पुरुष कहा जा सकता है |
  
 \\  हंसते हुए सहज भाव से करें मुकाबला \\
  
    कोई भी प्राणी अपने जीवन में आने वाली विपत्तियों कि किसी भी प्रकार उपेक्षा नहीं कर सकता है | वास्तव में विपत्तियां हमारी प्रतिकूलताएं हैं , जिनका हमें डटकर मुकाबला करना ही होता है | प्रत्येक प्राणी जिन वस्तुओं की जिन परिस्थितियों में इच्छा करते हैं , वह चाहते हैं कि उन इच्छाओं की पूर्ति भी उनकी आशाओं के अनुरूप ही हो , पर किन्ही कारणों से उन इच्छाओं की पूर्ति ना होना पाना ही विपत्तियां जान पड़ने लगती है | हमारी आशा के विपरीत हमारे स्वार्थ के स्थूल या सूक्ष्म जो भी रूप जीवन में सामने आते हैं , उन्हीं तथ्यों या रूपों को ही हम विपत्ति मान लेते हैं | इसके निवारण का सरल उपाय यह है कि हम अपने स्वार्थ , मोह , ममता , लोभ और धैर्य को मर्यादित और संयमित रखें | ऐसा करने से ही हम इन पर विजय प्राप्त कर सकते हैं | इसीलिए सादाजीवन बिताने पर जीवन से मुसीबतों की मात्रा कम हो जाती है | इसके बावजूद भी अगर कुछ मुसीबतें शेष रहती है , तो हर हम वक्त उनका समस्यायों और विपत्तियों का आसानी से हंसते हुए , सहज भाव से मुकाबला कर सकते है |

          \\  घबराएं नहीं \\
   
     अगर हम अपना जीवन सादा , स्वावलंबी और सही रूप से बिताना शुरू दें , तो हम भविष्य में आने वाली छोटी तथा बड़ी विपत्तियों का साहस के साथ मुकाबला कर सकते हैं | हमें यह भी ध्यान रखना होगा कि कुछ मुसीबतें तो केवल काल्पनिक होती हैं | जिनको तूल देकर हम बेकार में अपने चारों और भय का वातावरण न बनाएं | किसी कार्य को करने से पहले उसकी पूरी रूपरेखा तैयार करने लेने पर हमें असफलता का मुंह नहीं देखना पड़ता है | परंतु यदि मजबूर होकर हम बेमन से कोई कार्य करेंगे , तब ही सफलता मिलना ही संदिग्ध हो जाता है |  अगर आप यह सोचते हैं कि सफलता आपके भाग्य मैं लिखी थी | तो यह काल्पनिक विचार हैं | इसके लिए आप अपने भाग्य को दोषी न ठहराएँ | कभी-कभी अतिरिक्त कारणों से या परिस्थिति से अनजान होने या अज्ञानता से या अनभिज्ञ कारणों से भी परेशानियों का सामना करना पड़ता है | परंतु यदि हम इन परेशानियों को ईश्वर द्वारा हमारी आस्तिकता , आत्मविश्वास , धैर्य और सहिष्णुता की परीक्षा मानकर स्वीकार करें , तथा सच्चे मन से अपने कर्तव्य पथ पर चलें | तो इसमे कोई संदेह नही कि हर व्यक्ति प्रत्येक मुसीबत का आसानी से हंसते मुकाबला कर इन समस्याओं पर विजय प्राप्त कर सकता हैं |

        \\ साहस और संतोष \\
    
     यदि हर मानव कर्तव्य पथ पर चलते हुए अपना जीवनयापन संतोषपूर्वक व्यतीत करता है | उस समय कोई भी मुसीबत उसका जीवनपथ बाधित नहीं कर पाती है , क्योंकि ऐसा पुरुष इन सभी दिक्कतों को ईश्वरीय विधान मानकर सहर्ष स्वीकार कर लेता है | परिणामस्वरुप उसके मनोबल में इतनी वृद्धि हो जाती है कि वह कठिन से कठिन परिस्थितियों का सामना करने की शक्ति अर्जित कर ही लेता है | इसलिए प्रत्येक परिस्थिति में अपने मन को संतुलित , शांत और स्थिर रखने का प्रयत्न करना चाहिए | दूसरों के सुख को देख कर दुखी और बेचैन होने के बजाए प्रत्येक मानव को उन अभावग्रस्त लोगों को देखकर संतोष करना चाहिए , जो बहुत ही अभावों में अपना जीवन बिता रहें हैं | साथ ही यह भी सोचना चाहिए कि ईश्वर हम पर बहुत दयालु है , कि हम पर इन लोगों की अपेक्षा ईश्वर की बहुत ही ज्यादा दया प्राप्त है |
  
        \\  कमजोर न बने \\
 
    जीवन में किसी वस्तु का अभाव होना ही विपत्तियों का मूल कारण है | इस अभाव के लिए दिन-रात चिंतन करना बेकार है | हमें चाहिए कि हम इन विपत्तियों को प्रयत्नपूर्वक सुधारने का प्रयास करें, तथा भरसक कोशिश करें कि कभी भी विपत्तियों से घबराकर , प्रयत्नों को छोड़ देने की बात ही न सोंचें , बल्कि ऐसे समय में हमें दोगुने उत्साह के साथ उद्देश्य की प्राप्ति के लिए संलग्न हो जायें | हमे चाहिए की हम जीवन की समस्याओं का हल अपने पड़ोस और परिवार के सदस्यों से भी मिलकर भी करें | उनके प्रेरक विचार और बहुमूल्य सुझाव हमारी कठिनाई को आसान कर देते हैं , जिसकी प्रेरणा से तथा आत्मबल से विपत्तियों का निवारण किया जा सकता है | इसमें कमजोरी या कामचोरी दिखाने से हम सदैव अभावग्रस्त ही बने रहेंगे |
  
     \\ जीवन संग्राम में विजय प्राप्त करें \\
    उपरोक्त बातों का ध्यान देने के बाद हमें यह ज्ञात होता है कि जीवन एक प्रकार का संग्राम है | इसमें विजय प्राप्त करने के लिए प्रत्येक को अपने जीवन के कार्यक्षेत्र रूपी अखाड़े में निडर होकर युद्ध करें | जीवन में सफलता पाने के लिए हर मानव को विपत्तियों को पराजित करना ही होगा | इसमें हमारा पुरुषार्थ , सूझबूझ , दूसरों का परामर्श और मार्गदर्शन एवम् अपने आत्ममित्रों और हितचिंतक द्वारा किया गया समाधान हमारा अवलंबन साबित होगा | जिससे हम विपत्तियों पर विजय प्राप्त कर अपना जीवन सफल बना सकते हैं |

           \\ इति श्री \\

        \\ web - gsirg.com \\


Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…