Skip to main content

धर्म ; प्रगति का एकमात्र उपाय है तपश्चर्या [ 19 ]

Web - 1najar.in
प्रगति का एकमात्र उपाय है तपश्चर्या
प्रत्येक व्यक्ति के जीवन के दो ही प्रमुख क्षेत्र हैं | इसमें में प्रथम है , भौतिक क्षेत्र , तथा दूसरा है आध्यात्मिक क्षेत्र | इस भौतिक संसार का प्रत्येक प्राणी इन्हीं दो क्षेत्रों में से ही किसी एक को अपने जीवन में क्रियान्वित करना चाहता है | अपने प्रयास से उसको उस क्षेत्र में सफलता लगभग मिल ही जाती है | दोनों ही क्षेत्रों में सफलता के लिए केवल एक ही नियम काम करता है | उस नियम का नाम है तपश्चर्या | प्रत्येक क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने के लिए व्यक्ति को अभीष्ट श्रम करना पड़ता है | इसके लिए उसे प्रयत्न , पुरुषार्थ , श्रम और साहस का अवलंबन लेना पड़ता है | सफलता को पाने में यह सभी तत्व महत्वपूर्ण है | फिर भी प्रयत्न का एक अलग ही स्थान है |
प्रयत्न परायणता
यह तो सर्वविदित है कि व्यक्ति चाहे किसान हो , मजदूर हो , शिल्पी हो , पहलवान हो , कलाकार हो , चपरासी हो या अखबार हो अथवा कुछ भी हो उसको सफलता प्राप्त के सभी पायदानों को अपनाना ही पड़ता है | व्यक्ति के प्रयत्न में परायणता का इसमें प्रमुख और प्रथम स्थान है | इसे एक प्रकार से महाप्रज्ञा का तत्वदर्शन भी कहा जा सकता है | यह तत्वदर्शन सभी के आत्मिक जीवन में एक समान लागू होता है | किसी क्षेत्र में सफलता प्राप्त करने की संभावना इसी पर ज्यादा निर्भर करती है | साधन में तपश्चर्या की तीव्रता जिस अनुपात में होती है , सफलता भी उसी अनुपात में मिलती है |
तपश्चर्या की साहसिकता
सफलता प्राप्ति के प्रयासों में व्यक्त की ''तपश्चर्या की सार्थकता '' जिस मात्रा तक प्रचंड हो सकती है | सफलता भी उसी के अनुरूप ही मिलती है | उपासना और साधना का तांत्रिक पर्यवेक्षण करने से जानकारी मिलती है , कि पूरे संसार के आत्मविज्ञान का ढांचा ही किसी की प्रगति के लिए आवश्यक ऊर्जा पैदा करता है , अर्थात यह ऊर्जा तपश्चर्या के माध्यम से ही उत्पन्न की जा सकती है | प्रत्येक व्यक्ति को अंतश्चेतना का स्तर उच्च करने के लिए यह अत्यंत आवश्यक है | क्योंकि इसके बिना कोई काम ही नहीं चल सकता है | किसी भी व्यक्ति को अगर अपने जीवन स्तर को ऊपर उठाना है , अथवा आगे बढ़ाना है , यदि आगे बढ़कर सफलता पाना है तो उसे कार्यसमर्थता उत्पन्न करके ही किया जा सकता है | अन्यथा की स्थिति में उसमें पात्रता का विकास नहीं होगा |
विभूतियों और सिद्धियों से लाभान्वित होने का अवसर
जब व्यक्ति अपने अंदर समर्थता की पात्रता पैदा कर लेता है | उससमय से ही उसका विकास होना प्रारंभ हो जाता है | आध्यात्मिकप्रगति की दिशा में जिन लोगों ने सफलताएं प्राप्त की हैं , यदि उनके प्रयासों का आदि से अंत तक अध्ययन किया जाए , तब इस तथ्य का प्रमाणीकरण हो पाता है | तब पता चलता है कि केवल ऐसे ही महापुरुषों ने ही आवश्यक तपश्चर्या करके अपनी पात्रता विकसित की है | इस विकास के बाद ही उसे '' विभूतियों '' और '' सिद्धियों '' के लाभ के अवसर प्राप्त हुए हैं | श्रेष्ठ पुरुषों से लेकर ऋषियों और महर्षियों ने इसीप्रकार सफलताएं प्राप्त की हैं | उनकी सभी सफलताएं तप या साधना पर ही निर्भर रही हैं |
प्रबल पुरुषार्थ आवश्यक
भौतिक क्षेत्र में प्रत्येक तरह ही आत्मिकक्षेत्र में भी आत्मपरिष्कार के लिए प्रबल पुरुषार्थ करने पड़ते हैं | ऐसा करने से ही व्यक्ति में क्षमताओं का विकास होता है , तथा इसी के माध्यम से ही उसमें यह क्षमता पैदा हो जाती है , कि वह किसी की वह अंतरजगत की प्रसुप्त दिव्य क्षमताओं को जगाकर उसे विभूतिवाहक बना सके | इसके अलावा वह इसी आधार पर देवी के अनुरागियों को अपनी ओर आकर्षित कर सकता है | यह सब कुछ ठीक उसी प्रकार होता है , जैसे एक स्थान पर जमा हुआ धातुभंडार अपनी आकर्षण क्षमता से ही दूर-दूर फैले हुए सजातीय कणों को अपनी ओर खींच लेने की क्षमता पैदा कर लेता है | बिल्कुल यही तथ्य या सिद्धांत आत्मिकप्रगति की दिशा में अक्षरसः से लागू होता है |
साधक में पात्रता का विकास
साधक अपने प्रयासों से जितनी प्रगति प्राप्त कर लेता है , उसी अनुपात में उसका विकास भी होता है | विकास के क्रमशः बढ़ते रहने से उसे अपने वर्चस्व में भी प्रगति मिलती चली जाती है | क्योंकि इन दिव्य उपलब्धियों का उद्गम क्षेत्र ही व्यक्ति का अंतःक्षेत्र में होता है , तथा इसी क्षेत्र में उसे व्यापकं ब्रह्मसत्ता से भी अजस्र अनुग्रह प्राप्त होते चले जाते हैं | इन उपलब्धियों से साधक निहाल होता चला जाता है | इसके बावजूद भी मूल तत्व जहां का तहां ही रहता है | यदि उसे प्राप्त करना है उसका मूल्य भी चुकाना होता है |
उच्च स्तरीय सफलताओं की प्राप्ति
यदि किसी ने भौतिक क्षेत्र में पुरुषार्थ कर लिया है , तब उसके प्रति प्रतिफल का कर्म और भाग्य का सिद्धांत पग पग पर चरितार्थ होता चला जाता है | मां गायत्री महाशक्ति की देवी हैं , उनकी उपासना करने वालों को उनकी आत्मिकभूतियां प्राप्त करने के लिए भी उपयुक्त पुरुषार्थ करने का सिद्धांत , सरलता से समझ में आता रहता है | उन्हें यह जानकारी हो जाती है कि आत्मिक पुरुषार्थ का नाम ही तपश्चर्या है , इसीलिए वह लोग उसी का अनुसरण करते हुए , प्राचीन काल के महान आत्मवेत्ताओं की तरह उच्च स्तरीय सफलताएं प्राप्त करने में सफल हो पाते है | उनकी इस सफलता में तपश्चर्या का प्रमुख स्थान होता है |
उच्च स्तरीय आदर्शों का परिपालन
तपश्चर्या के माध्यम से ही सफलताएं प्राप्त करनेवालों में स्वार्थपरता या लोकलालसाएं नहीं होनी चाहिए | उसे अपने अंदर दैवीय परंपराओं को इस प्रखरता के साथ अपनाना चाहिए कि उसके समक्ष पशुता को सफलता न प्राप्त हो सके | व्यक्ति को आत्मिकप्रगति की उपलब्धि का उचित मूल्य चुकाने का साहस भी होना चाहिए , क्योंकि सिद्धियां सदा ही पुरुषार्थों वालों को ही मिलती रही हैं | उसे पूरी तरह इस तथ्य स्मरण रखना चाहिए , कि किसी को काया कष्ट देना ही नहीं है , बल्कि उच्च स्तरीय आदर्शों का पालन करना है | तथा जनोपकर के ही कार्य करते रहना है | उसको इस तथ्य को प्रसन्नतापूर्वक स्वीकार करना ही तपसाधना या तपश्चर्या कहलाता है |
इति श्री
Web - 1najar.in

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…