Skip to main content

इलाज ; मोटापा [ 20]

Web - 1najar.in
मोटापा
इस दुनिया में हर एक प्राणी सुगठित , सुंदर और सुडोल तथा मनमोहक शरीर वाला होना चाहता है | इसके लिए वह तरह तरह के व्यायाम करता है | सुडौल शरीर पाने के लिए वह हर व्यक्ति जो मोटापे से परेशान है , प्राणायाम और योग का भी सहारा लेता है | लेकिन उसका वातावरणीय प्रदूषण , अनियमित आहार-विहार उसके शरीर को कहीं ना कहीं से थोड़ा या बहुत बेडौल कुरूप या भद्दा बना ही देते हैं | आदमियों के शरीर में होने वाली इन कमियों मैं एक मोटापा भी है | जिसके कारण व्यक्ति का शरीर बेबी डॉल जैसा दिखाई पड़ने लगता है | बहुत से यत्न और प्रयत्न करने के बाद भी उसे इसमें सफलता नहीं मिल पाती है | वस्तुतः शरीर का मोटा होना उस व्यक्ति के लिए लगभग अभिशाप सा होता है |
वसा की आवश्यकता
हमारे शरीर के अंगों और प्रत्यंगों को ढकने का कार्य बसा या चर्बी का होता है | जिसकी एक मोटी परत त्वचा के नीचे विद्यमान रहती है | इस चर्बी का काम शरीर को उष्णता प्रदान करना है | इसके अलावा यह शरीर में चिकनाई भी बनाए रखती है | इस प्रकार से यह शरीर रक्षण का काम भी करती है | और आवश्यकता पड़ने पर शरीर के अन्य रक्षात्मक कार्य भी करती है | इसकी एक निश्चित और निर्धारित मात्रा ही शरीर के लिए पर्याप्त होती है | इसकी अधिक मात्रा से शरीर में मोटापन लाना शुरू कर देती है | इसकी मात्रा का शरीर में बढ़ना , इसकी निर्धारित मात्रा शरीर के लिए यदि वरदान है तो इसकी अधिकता एक तरह से शरीर के लिए अभिशाप बन जाती है |
मोटापा होने के कारण
मोटापा बढ़ने का प्रमुख कारण है , लोगों द्वारा चिकनाई युक्त पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना होता है | भोजन को ठीक से न चबाने के कारण कच्चा आहार रस ही चर्बी को पोषण प्रदान करता है | गर्म भोजन करना , गर्म जल से स्नान करना और गर्म कपड़ों का पहनना भी कभी-कभी चर्बी बढ़ाने वाला साबित होता है | जंकफूड तथा फ़ास्टफ़ूड जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन , दिन में सोना तथा आरामदायक जीवन व्यतीत करना भी मोटापा बढ़ने के कारण है | आरामदायक जीवन व्यतीत करना और परिश्रम न करना ही ऐसे कारक हैं , जिनसे शरीर की पिट्यूटरी ग्रंथि और चुल्लिका ग्रंथि में वृद्धि होने लगती है | और शरीर मोटा दिखाई पड़ने लगता है | इसके अलावा अन्य स्रोतों में चर्बी के रुक जाने के कारण भी खून की वृद्धि न होकर चर्वी ही बढ़ती है |
लक्षण
मोटापे की प्रारंभिक स्थिति में स्तन तथा पेट पर भारीपन आने लगता है | बाद में यह भारीपन धीरे धीरे सारे शरीर पर मोटापा लाना शुरू कर देता है | इसके बाद व्यक्ति के कूल्हों पर भारीपन आने लगता है | मोटापा होने के कारणों में प्यास का अधिक लगना , स्वास्थ्य का उठा हुआ सा रहना तथा थोड़े ही परिश्रम से ही सांस फूलना और थकावट होना इसके प्रमुख लक्षण हैं | मोटापे के कारण गले में घुरघुराहट होना , पसीने का अधिक आना , शरीर का दुर्गंधित रहना , व्यक्ति के मस्तिष्क में ग्लानि का बना रहना और दुर्बलता का अधिक अनुभव होना आदि भी इसके लक्षण है |
बीमारियों का घर है मोटापा
मोटापा एक प्रकार से बीमारियों का घर है | इसका कारण है कि शरीर में चर्बी के कारण ही वायुमार्ग अवरुद्ध जाते हैं | जिससे पेट में गैस बनने लगती है | चर्बी खाए हुए अन्न को जल्दी पचा देती है , जिसके कारण भूख भी अधिक लगती है | इसके अलावा शरीर में मांस की जगह चर्बी आ जाती है जिससे रक्तवाहक नाड़ियां पतली पड़ जाती हैं | जिसके कारण शरीर में खून का परिसंचरण ठीक से नहीं हो पाता है | जोड़ों में दर्द और सूजन , शरीर में गर्मी की कमी तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम पड़ जाना मोटापे के कारण ही होता है | इसके अतिरिक्त उम्र बढ़ने पर व्यक्ति के शरीर में खून की कमी भी हो जाती है , जिसके कारण वह सदा ही दुर्बलता का एहसास किया करता है |
अन्य उपद्रव
यदि शरीर का मोटापन ज्यादा दिनों तक बना रहता है , तो उस व्यक्ति को मंदबुखार , बवासीर , भगंदर और प्रमेह रोग हो जाते हैं | शरीर में मेधाशक्ति की कमी हो जाती है जिसके कारण दुर्बलता भी बढ़ जाती है | इसी के कारण शरीर में कामवासना बनी रहने पर भी उस व्यक्ति की कामशक्ति क्षीण हो जाती है | जिसके फ़लस्वरूप वह स्त्रीसंसर्ग के अयोग्य हो जाता है , तथा कामनापूर्ति न होने से लज्जित होता रहता है | मधुमेह , हृदयरोग , ब्लडप्रेशर जैसी भयंकर बीमारियां उसे चारों ओर से घेर लेती हैं |
उपाय
मोटापे वाले व्यक्ति को वसा युक्त पदार्थों का सेवन जितनी जल्दी सके बन्द कर देना चाहिए | इसके अतिरिक्त उसे भोजन की मात्रा कम कर के समय-समय पर उपवास करते रहना चाहिए | नियमित साधारण परिश्रम , व्यायाम , प्राणायाम आदि नियमित रूप से करने चाहिए | उसे सुबह शाम टहलने के बाद , पानी में नींबू का रस निचोड़कर सुबह-शाम पीना चाहिए | नमक की मात्रा कम करके तथा नियमित मालिश करके भी चर्बी को पिघलाया जा सकता है | चर्बी के पिघलनेसे खून का दौरा भी शरीर में ठीक तरह से होने लगता है |
उपचार
जिस व्यक्ति को मोटापा हो जाए उसे चाहिए कि वह बाजार से पर्याप्त मैं नींबू और शहद लाकर घर में रख ले | प्रातःकाल बाजार से लाए नींबुओं को निचोड़ कर उनका 25 ग्राम रस निकालें | ततपश्चात उस रस में 20 ग्राम शहद मिलाकर तथा लगभग 250 ग्राम पानी में घोलकर शरबत जैसा तैयार करें | बाद में इस तैयार शरबत को पी जाए | रोगी जिससमय शरबत पिए , उससमय उसे खाली पेट होना चाहिए | इसी प्रकार शाम को भी इसी तरह शरबत बनाकर पी लिया करें | मोटापे से ग्रस्त व्यक्ति को यह प्रयोग 3 से 5 महीने तक करना होता है | इसके निरन्तर नियमित सेवन से शरीर पर कितनी भी चर्बी जमा हो चुकी है , आसानी से पिघल जाती है | शरीर में जितना ज्यादा चर्बी की मात्रा होगी उसी के अनुसार औषधि सेवन का समय भी बढ़ सकता है | यह एक ऐसी निरापद ,परीक्षित और अनुभूत औषधि है , जो शरीर से हर प्रकार की चर्बी को घटा देती है | इसके नियमित प्रयोग से शरीर ,पहले की तरह ही सुगठित और सुडौल बन जाता है | इसमें किसी को कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि मोटापा घटाने की यह एक आश्चर्यजनक औषधि है , इसके स्तर की दूसरी अन्य कोई चर्बी घटाने वाली औषधि शायद ही मिले |
जय आयुर्वेद
Web - 1najar.in

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…