Skip to main content

धर्म ; आध्यात्मिक व्यक्तित्व [23 ]

Web - 1najar.in
आध्यात्मिक व्यक्तित्व
पिछले कई लेखोँ में हम बता चुके हैं कि , संसार में दो प्रकार के पुरुष पाए जाते हैं | इनमें से पहले को सांसारिक और दूसरे को आध्यात्मिक पुरुष कहते हैं | इनके व्यक्तित्व भी अलग-अलग तरह के होते हैं | वर्तमान लेख में हम आध्यात्मिक पुरुषों की व्यक्तित्व का ज्ञान प्राप्त करेंगे |
ट्रांसपर्सनल व्यक्तित्व
आध्यात्मिक पुरूषों का व्यक्तित्व व्यापक एवं विस्तृत होता है | ऐसे लोगों के व्यक्तित्व की सर्वोपरि विशेषता होती है , कि ऐसे पुरुषों का '' मानसिक दायरा '' सामान्य पुरुषों की तुलना में संकीर्ण संकरा या सीमित नहीं होता है | इसका कारण होता है उनका गंभीर अनुभव | उनके अनुभव की गहराई एवं व्यापकता से ही उनका व्यक्तित्व परिभाषित होता है | विकास की अनंतता छिपाए ऐसे पुरुष सामान्य सदेह में होकर भी आकाश पुरुष बन जाते हैं | एक प्रकार से ऐसे पुरुष साक्षात परमात्मा का रूप होते हैं | उनके अंदर सभी कुछ सामान्य पुरुषों से परिवर्तित रहता है |
भिन्न मानसिक सोँच
आध्यात्मिक पुरुष की मानसिक दुनिया सामान्य पुरुषों की दुनिया से भिन्न होती है | दुनिया की संकीर्ण और संकरी मानसिकता से ऊपर उठे हुए यह लोग , रिश्ते की सोच , आग्रह एवं मान्यताओं के दायरे में रहते हैं | यह लोग इसी में ही रमे रहते हैं | ऐसे लोग सांसारिक रिश्ते जैसे माता-पिता , भाई-बहन , पति-पत्नी , संतान और मित्रगणों के दायरे से बाहर निकलकर किसी अन्य रिश्ते की कल्पना ही नहीं कर पाते हैं |
देहातीत पुरुष
आध्यात्मिक पुरुष देखने में तो सामान्य पुरुषों जैसे लगते हैं , परंतु उनसे बिलकुल ही भिन्न होते हैं , क्योंकि उनका आंतरिक जीवन परिवर्तित , परिष्कृत और परिवर्धित होता है | यह पुरुष सदेह होकर भी देहातीत होते हैं | यह महापुरुष मानवदेह को धारण कर इस दुनिया में किसी अन्य उद्देश्य की पूर्ति के लिए आते हैं , और अपने उद्देश्य को पूरा करने के बाद इस सांसारिक दुनिया से , अपनी दुनिया अर्थात परमात्मा की दुनिया में चले जाते हैं | अपने उद्देश्यों की पूर्ति हेतु तथा उद्देश्यों को मूर्तरुप देने हेतु इन्हें इस संसार में कुछ समय के लिए ही आना पड़ता है | इन महापुरुषों का अपना लोक इनके इंतजार में पलक पांवड़े बिछाए बैठा रहता है |
अहम और स्वार्थ से दूर रहने वाले पुरुष
आध्यात्मिक व्यक्तित्व वाले पुरुष के मन में कभी भी '' मैं ''और '' मेरा '' का विचार नहीं आता है | वह स्वार्थ और अहं से हरदम दूर रहता है | वह जानता है कि संसार के सारे दुखों की जड़ मानव के यही दुष्वृत्तियाँ हैं | सांसारिक पुरुष सदैव इसी की खोज में लगे रहते हैं | जबकि आध्यात्मिक पुरुष सदा ही इन कुवृत्तियों से दूर रहते हैं | उनके लिए संसार के सभी सुख और दुख एक ही श्रेणी के होते हैं | इनका अनुभव व्यापक और विस्तृत होता है | अध्यात्त्मिक पुरुषों को अपने अनुभव से जो उचित प्रतीत होता है , वह उसी के अनुरूप ही कार्य संचालन करते हैं | यही कारण है कि सामान्य लोग आध्यात्मिक पुरुषों की सोच के विषय में अनजान और अनभिज्ञ रहते हैं , जबकि आध्यात्मिक पुरुष न तो अनजान होते हैं और न ही अनभिज्ञ |
व्यापक मानसिक सोच
आध्यात्मिक पुरुषों की सोच व्यापक और विस्तृत होती है , क्योंकि समग्र मानव जाति ही उनके अपने रिश्तो में समाहित होती है | वह न तो किसी के प्रति आग्रह की भावना रखते हैं , और ना दुराग्रह की | आध्यात्मिक पुरुषों की सोच भी विश्वव्यापी होती है , और उनका आत्मविश्वास अधिक और अविचल होता है | वे जीवन रूपी युद्धभूमि में एक निर्भीक योद्धा की तरह अपने कदम बढ़ाए रखते हैं , और जीवन के युद्ध में विजय भी प्राप्त करते हैं |
ग्रहणशील और संवेदनशील व्यक्तित्व
आधात्मिक पुरुषों की आंतरिक दुनिया सामान्य लोगों की दुनिया से उच्च कोटि की होती है | इसीलिए उनकी सोच तथा समझ भी सामान्य मानव की तुलना मैं श्रेष्ठ होती है | ऐसे महापुरुषों का न तो अपना कोई सुख होता है , और न दुख | यह दूसरों के सुख मैं ही सुख का अनुभव और दुख में दुख का अनुभव करते हैं | इसका कारण ही यह है कि इनका जीवन मानवीयता के लिए समर्पित होता है | इनकी इस व्यापकता का आधार ही उनकी ग्रहणशीलता है | व्यापक ग्रहणशीलता के कारण ही उनका चरित्र विस्तृत , विराट और श्रेष्ठ प्रकृति का होता है | ऐसे लोग दूसरों के कष्ट और पीड़ा को अपना कष्ट और अपनी पीड़ा समझते हैं , तथा उसे दूर करने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं | क्योंकि इनकी संवेदनशीलता ही सामान्य पुरुषों की तुलना मे अधिक व्यापक होती है | सामान्य पुरुषों के कष्टों को दूर करने के लिए ऐसे महान विचारक प्रकृति के यह लोग अपने ईश्वर से उनका दुःख और पीड़ा दूर करने की प्रार्थना किया करते हैं |
जैसा कि पूर्व में हम बता चुके हैं कि इनका अनुभव बहुत गहरा होता है | अनुभव की व्यापकता के अनुरूप इनका चेतनात्मक विकास भी होता है | इसी व्यापकता के कारण ही उनके व्यक्तित्व का विकास भी होता ही रहता है | ऐसे पुरुषों का भावनात्मक संवेदन की व्यापकता , मानसिकता , रूपांतरण उच्च कोटि का होती है | इसलिए इनकी जागृत चित्तावस्था और समझ भी विराट होते हैं | किसी भी समस्या को हल करने के लिए यह लोग उसके मूल में जाकर उसका अध्ययन कर उसे निर्मूल करना , ही उनका उद्देश्य होता है | अंत में यह कहा जा सकता है कि उनका व्यक्तित्व अद्भुत और अतुलनीय होता है | इस श्रेणी के लोग व्यक्तित्व के समग्र विकास के लिए ही आध्यात्मिक पद का चयन और अनुसरण करते हैं |

The End
Web - 1najar.in

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…