Skip to main content

धर्म ; ईश्वर का संस्पर्श है प्रार्थना [26 ]

Web - gsirg.com
धर्म ईश्वर का संस्पर्श है प्रार्थना
इस संसार का प्रत्येक व्यक्ति अपने ईष्ट की प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए , सच्चे मन से जिन शब्दों का उच्चारण करता है , उसे हम सब प्रार्थना के नाम से जानते हैं | यह शब्द ईश्वर , अल्लाह गाड या किसी के प्रति हो सकते हैं , जिसके प्रति उसका श्रद्धाभाव हो | यह एक प्रकार से उसके अपने अंतःकरण की भावाभिव्यक्ति की प्रक्रिया है प्रार्थना | इस प्रकार से अपने ईष्ट की श्रद्धा तथा अंतःकरण की सच्ची पुकार को ही प्रार्थना कहा जाता है | प्रार्थना एक लयबद्धता है , जो हमारे मन के अंदर की गहराई से उद्घटित होती रहती है | इसके ही माध्यम से साधक विराट की ओर उन्मुख होता है | प्रार्थना के शब्द किसी तरह के तर्क और भाषा से परे होते हैं |
कृतज्ञता के भाव का प्राकट्य
प्रत्येक मानव द्वारा की गई प्रार्थना में उसकी कृतज्ञता का भाव होता है , जिसमें उसके शुभ विचार सम्मिलित होते हैं | इसे मानव के अंतकरण से निकली हुई करुण पुकार के रूप में भी जाना जाता है | अगर किसी का विचार है की प्रार्थना एक प्रकार की याचना है तब भी इसे अनुचित नही कहा जा सकता है | इसे थोड़ा समझने की आवश्यकता है | जब हम अपने आराध्य से कुछ मांगते हैं , तो वह भी प्रार्थना ही है | वस्तुतः प्रार्थना और याचना में काफी अंतर है , क्योंकि जब याचना की जाती है तब यह अनुभव किया जाता है कि हम दीन , हीन और दरिद्र है ,तथा किसी के सामने अपनी इच्छा की पूर्ति के गिड़गिड़ा रहे हैं | जबकि प्रार्थना का स्वरूप इससे बिल्कुल ही भिन्न है|
ईष्ट से जुड़ने का माध्यम
प्रार्थना में हम कृतकृत्य होते हैं , कृतार्थ होते हैं और कृतज्ञ होते हैं | प्रार्थना एक प्रकार से भक्त और भगवान के मिलन का माध्यम है | प्रार्थना में कृतज्ञता का भाव निहित होता है | जिसके उच्चतम बिंदु पर या जिस शिखर पर भक्त और भगवान का मिलन होता है | यही प्रार्थना होती है | इसलिए सभी धर्मों में प्रार्थना को किसी न किसी रूप में सम्मिलित किया गया है |
सभी धर्मों में मान्यता
सभी धर्मों ने किसी न किसी से इसका समर्थन किया है , इसीलिए हर धर्म में प्रार्थना की एक निश्चित प्रथा है | उसी के अनुरूप ही प्रार्थना की एक विशेष प्रथा की विधि भी निश्चित और निर्धारित की गई होती है | प्रार्थना के लिए हिंदू लोग नित्य प्रति संध्या वंदन करते हैं अर्थात इसमें त्रैकालिक संध्या का विधान है | इस विधान में कुछ क्रियाएं होती हैं जैसे कि योगमाता माँ गायत्री को मानने वाले उनके मंत्र के माध्यम से अपने भावों को भगवान को समर्पित करते हैं , और उनके कृपापात्र बनने का अवसर ढूंढते रहते हैं | जबकि इस्लाम में इस सभी को प्राप्त करने के उद्देश्य से पांच वक्त की नमाज अदा की जाती है | यह भी एक प्रकार की प्रार्थना ही है | इसी प्रकार ईसाई लोग चर्च में या घरों में प्रार्थना करते हैं | ईसाइयों में प्रार्थना का बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है , इन लोगों के यहां पर एकल या सामूहिक प्रार्थना होती है | इस प्रकार से प्रार्थना एक विचार , या एक भाव या एक श्रद्धा है | जिसमे लोग अकेले या कई लोगों एक साथ मिलकर ईश्वर को पुकारते हैं | इस प्रकार से प्रार्थना करने पर उनमे में एक प्रकार की भाव तरंगे उठती हैं , जिससे प्रार्थना के भाव साकार होने लगते हैं |
प्रार्थना समीकरण नहीं
प्रार्थना कोई गणितीय समीकरण नहीं है , जिसे हल किया जाए | यह बुद्धि के तर्क , विचार और विश्लेषण का विधान नहीं है | इसमें पवित्र और श्रद्धाभाव से निकली हुई पुकार होती है | प्रार्थना के माध्यम से हृदय के द्वार के कपाट खुलते हैं , जिनसे प्रेमपूर्वक परमात्मा हम में प्रवेश करते हैं | इसका कारण है कि श्रद्धा से सत्य प्राप्त होता है , और प्रार्थना के माध्यम से प्राणी सत्यस्वरुप परमात्मा की ओर बढ़ता है |
भावनाओं का उत्थान
प्रत्येक मानव के सामान्य जीवनक्रम में या सामान्य जिंदगी में उसकी भावनाएं विभिन्न दिशाओं में , कई स्थानों पर और कई दिशाओं में परिक्रमित होती रहती है | यह भावनाएं परिजनों में , और उसके कार्यों आदि में घूमती रहती है | जब हम इन भावनाओं को एकजुट कर लेते हैं ,एकाग्र कर लेते हैं या फिर उन पर विजय प्राप्त कर लेते हैं , उस समय प्रार्थना के माध्यम से हमारी भावनाएं ऊपर की ऒर उठती है | ऐसी भावनाओं से जब हम को भगवान याद करते हैं तो हमें हमारी प्रार्थना का उत्तम फल प्राप्त होता है | वास्तव में भावनाओं का उत्थान होना ही ईश्वर से जुड़ने का उचित माध्यम होती है |
सच्चे मन से की गई प्रार्थना सदैव फलीभूत होती है | यदि प्राणी को अपने इष्ट से जुड़ना है तो उसे भावनाओं और सम्वेदनाओं की महीन महीन धागों से प्रार्थना की मजबूत डोरी बनानी होती है | श्रद्धा और पवित्र भावना से बनी एक डोरी से भगवान सदैव भक्तों से जुड़े रहते हैं यही कारण है कि प्रार्थना के क्षणों में उसे भगवान का पर्स मिलता है | अंत में उसका जीवन सफलताओं से परिपूर्ण हो जाता है |
इति श्री

Web = gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…