Skip to main content

[ 1 ] धर्म ; मानवप्रकृति के तीन गुण

code - 01


web - gsirg.com


धर्म ; मानवप्रकृति के तीन गुण

संसार में जन्म लेने वाले प्रत्येक प्राणी के माता-पिता तो अवश्य होते हैं | परंतु धार्मिक विचारकों के अनुसार उनके माता-पिता , जगत जननी और परमपिता परमेश्वर ही होते हैं | इस संबंध में यह तो सभी जानते हैं कि ,जिस प्रकार इंसान का पुत्र इंसान ही बनता है , राक्षस नहीं | इसी प्रकार शेर का बच्चा शेर ही होता है , बकरी नहीं | क्योंकि उनमें उन्हीं का अंश समाया होता है | ठीक इसी प्रकार जब दुनिया के समस्त प्राणी परमपिता परमेश्वर की संतान हैं , तब तो इस संसार के प्रत्येक प्राणी में ईश्वर का अंश विद्यमान होना चाहिए | आत्मा का अंशरूप होने के कारण , सभी में परमात्मा से एकाकार होने की क्षमता व संभावना होती है | क्योंकि मनुष्य की जीवात्मा, आत्मा की उत्तराधिकारी है , इसलिए उससे प्रेम रखने वाला दिव्यता के शिखर पर न पहुंचे , ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता है | यह जरूर है कि , संसार के मायाजाल में फँसे रहने के कारण मानव इस शाश्वत सत्य को न समझने की भूल कर जाता है , और स्वयं को मरणधर्मा शरीर मानने लगता है |

जीव आत्मा अविनाशी है

मानव शरीर में प्रविष्ट अविनाशी जीवात्मा को नाशवान देह से बांधने का , या यूं कहें कि उसके प्रति आसक्ति पैदा करने का कार्य प्रकृति के तीन गुण ही करते हैं | जिन्हें हम सत , रज और तम के नाम से जानते हैं | इसे इस प्रकार से भी समझा जा सकता है | कि यदि जीवात्मा सदा , नित्य , शुद्ध और अविनाशी है तो हमारे मन मे इस देह के प्रति आकर्षण , उसके छूट जाने का भय -- कब और कैसे प्रकट हो जाता है | इस जिज्ञासा का उत्तर यह है कि , ऐसा इसलिए होता है कि हम स्वयं को, तथा अपने अस्तित्व को--प्रकृति के गुणों द्वारा या प्रकृति के गुणों के माध्यम से परिभाषित हुआ मानने लगते हैं | परिणाम स्वरुप हम अपने सत्य , सास्वत और अविनाशी स्वरूप को भूलकर तथा प्रकृति के गुणों में बंधकर अपनी पहचान एक शरीर के रूप में मान लेते हैं | यही कारण है कि ऐसे मे ही शरीर के सुख-दुख , आसक्ति- मोह , क्रोध व पीड़ा हमको हमारे अपने लगने लगते हैं | जबकि इसके विपरीत बंधनों से मुक्त जीवआत्मा के लिए तो यह एक आभास के अलावा कुछ और है ही नहीं |

प्रकृति के गुण

प्रकृति के तीनों ही गुण बहुत ही महत्वपूर्ण है | जिन्हें हम सत , रज और तम के नाम से जानते हैं | इनकी अपनी निर्धारित विशेषताएं हैं , तथा इनका स्वभाव ही इनका गुण है | भारतीय चिंतनकारों ने इनका सदा ही इनका वर्गीकरण , इनके गुणात्मक आधार पर किया है , तथा उसी क्रम में प्रकृति के यह 3 गुण भी वर्गीकृत किए गए हैं | चिंतनकारों के अनुसार निष्क्रियता का ठहराव वाले प्रकृति के गुण को '' तम '' कहा गया है , तथा कामना और गति की सक्रियता वाली प्रकृति के गुण को'' रज '' , और सबसे अंत में संतुलन तथा साम्यावस्था की प्रकृति वाले के गुण को ''सत '' नाम से वर्गीकृत किया गया है | प्रकृति के यह गुण जीवात्मा मे -- मै शरीर हूं , शरीर की कामनाएं और वासनाएं मेरी है , इस प्रकार की देहाशक्ति पैदा कर देती है कि इस से प्रभावित देहाशक्ति ही जीवात्मा के बारंबार जन्म लेने और मरने का कारण बनती है | जबकि सत्य यह है कि यह गुण जीव को नहीं बांधते , वरन हमारी उनके प्रति आसक्ति ही हमारे बंधन का कारण बनती है |

गुणों का कार्यक्षेत्र

प्रकृति क़े इन तीनों गुणों का कार्यक्षेत्र भी हमारे अस्तित्व या हमारे व्यक्तित्व के तीन भिन्न-भिन्न तललों पर होता है | जिनका विवरण इस प्रकार है

प्रकृति के इन गुणों का प्रभाव हमारा यह नश्वर शरीर , जिसे हम स्थूलशरीर , के रूप में देखते या दिखाई देते हैं , पर अपना प्रभाव डालता है |

'' तम '' नाम के प्रकृति का यह गुण आलस्य , आशक्ति , निष्क्रियता , जड़ता या टकराव के कारण होता है

|'' रज '' का प्रभाव क्षेत्र मानव का मन है | मानव के मन में कामनाओं , वासनाओं , आकांक्षाओं , महत्वाकांक्षाओं और तृष्णाओं का निवास हो जाता है | ऐसी स्थिति को प्राप्त मानव पर प्रकृति का रजोगुण परिलक्षित होने लगता है |

इसी तरह '' सत् '' का प्रभाव क्षेत्र भावनाओं पर दृष्टिगोचर होता है | प्रकृति का गुण मानव की उपरोक्त प्रकृतियों मे संतुलन , साम्यता और शांति के रूप में अपनी उपस्थिति के अनुभव का एहसास कराता है |


सीधे और सरल शब्दों में जाना जाए तो '' तम '' निराशा और दुख का अनुभव कराता है | तथा '' रज '' आशा का और सुख का अनुभव कराता है | जबकि '' सत् '' इनके बीच मे संतुलन बनाता है | यह तीनों ही गुण , जीवात्मा का बंधन तैयार करते हैं | इन तीनों के बिना जीवआत्मा शरीर में रह ही नहीं सकती | इसका कारण है कि इनसे पार जाते ही , त्रिगुणातीत होते ही , जीवात्मा सभी प्रकार के बंधनों से मुक्त हो जाती है , और अपने मूल रूप में आकर , मूल अवस्था को प्राप्त कर लेती है |

इति श्री


web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…