Skip to main content

[ 1 ] इलाज ; डिप्थीरिया

code - 01

web - gsirg.com

इलाज ; डिप्थीरिया

यह बच्चों को होने वाला एक ऐसा भयंकर रोग है , यदि इ सका समय रहते हैं उपचार न किया जाए तो , देखते ही देखते बच्चा रोग की भयंकरतम स्थिति में पहुंच जाता है , परिणाम स्वरुप बच्चे की मृत्यु भी हो सकती है | एक ऐसा रोग है जो बच्चे के गले और नासिका में होने वाले विशिष्ट संक्रामक रोगों की श्रेणी में आता है | यह रोग शीत और समशीतोष्ण वातावरण में रहने वाले बच्चों को अधिक होता है , तथा कभी-कभी बड़े शहरों तथा पहाड़ी प्रदेशों में अधिक फैल जाता है | यह रोग ज्यादातर बाल्यावस्था में ही होता है | इस रोग के खसरा , बड़ी खांसी , इंफ्लुएंजा और गले की बीमारियों के बाद इसके होने की संभावना बनी ही रहती है |

रोग का परिचय


विशिष्ट श्रेणी का यह संक्रामक रोग अधिकतर 1 वर्ष से ऊपर की उम्र के बच्चों को अधिक होता है | यदि यह रोग घर में किसी बच्चे को है , तब घर के अन्य बच्चों को भी इससे संक्रमित होने की आशंका बनी रहती है | इसलिए जब किसी बच्चे को यह संक्रमण हो जाए , तो उसे तुरंत ही जितनी जल्दी हो सके चिकित्सक के पास ले जाकर इसका इलाज आरंभ करवा देना ही श्रेयस्कर होता है , ताकि दूसरे बच्चे इस संक्रमण से प्रभावित न होने पाए |

संक्रमण का प्रसार


जब कोई बच्चा इस संक्रमण की चपेट में आ जाता है तब रोगी बच्चे के गले में एक विशिष्ट प्रकार की झिल्ली बन जाती है | इस झिल्ली में इस रोग के अनेकों संक्रमणकारी जंतु विद्यमान रहते हैं | जिस समय बच्चा थूकता , खाँसता , छींकता या बोलता है, उस समय यह जीवाणु वायु के संपर्क में आ जाते हैं | जिसके कारण इस रोग से दूसरों बच्चों के प्रभावित होने का खतरा बना रहता है | इसके अलावा यदि दूसरे बच्चे , रोगी बच्चे के मुंह की लार , रूमाल , चम्मच और पानी का गिलास के संपर्क में आकर उसका उपयोग करते हैं , उस समय भी इस रोग का प्रसार दूसरे बच्चों में बड़ी तेजी से होने लगता है , परिणाम स्वरुप दूसरों बच्चे भी इस रोग की चपेट में आ जाते हैं |

अन्य कारण


जिस बच्चे के माता पिता अपने बच्चों को स्वास्थ्य नियमों के विपरीत आहार विहार का वातावरण बना लेते हैं , अथवा अपने बच्चों को दुर्गंध और सीलन भरे अंधकारमय स्थान पर रखते हैं | रोगी बच्चों के मलमूत्र के पास , या गंदे कूड़े आदि पड़े स्थानों , वस्त्रों में मवाद , नाक का पानी, लार लिप्त रहने, बासी और दुर्गंधित भोजन करने , दूषित स्थानों पर रखने से , दूषित दूध आदि का सेवन कराते हैं , उनके बच्चों को यह रोग होने का खतरा अधिक बना रहता है | बच्चों के माता-पिता द्वारा उनकी अनुचित देखभाल के कारण , बच्चों के गले में लालिमा पैदा होकर यह रोग हो जाता है |

रोग की प्रथम अवस्था


इस रोग की पहली अवस्था मे बच्चे के गले में चारों और लालिमा का हो जाना , बच्चे के तालू में सफेद परत दिखाई पड़ना ही , इस रोग का प्राथमिक लक्षण है | इसके दो-तीन दिन बाद तालू की सफेद पर्त झिल्ली में बदल जाती है , जिसके कारण बच्चे के गले में सूजन हो जाती है , तथा उसे कोई पदार्थ निगलने मे कष्ट महसूस होने लगता है | धीरे-धीरे उसका बुखार 102 डिग्री तक पहुंच जाता है , खांसी शुरू हो जाती है , सांस लेने में दिक्कत होती है तथा मुख मंडल भी फीका पड़ जाता है |

रोग की दूसरी अवस्था


इस अवस्था मे गले की सूजन बढ़ जाती है और बुखार भी लगभग 105 डिग्री तक पहुंच जाता है | बच्चे की नाड़ी गति तीव्र हो जाती है , और वह बेकार की बकबक करने लगता है | रोगी बच्चे का मुंह लाल हो जाता है , उसे प्यास भी अधिक लगने लगती है , उसकी बेचैनी और शरीर की दुर्गंध भी बढ़ जाती है | यह इस रोग की भयानक अवस्था है |

रोग की तीसरी अवस्था


इस अवस्था में बच्चे की गर्दन अकड़ जाती है , और गले में काफी सूजन आ जाती है |बच्चे के कान में दर्द भी होने लगता है , क्योंकि रोग का विष नासा तक फैल जाता है | यह इस रोग कि और भी भयानक अवस्था है |

रोग की अंतिम अवस्था

रोग की अंतिम अवस्था मे गले की सूजन बढ़कर पूरे गले , नासिका , स्वरयंत्र तथा अन्य नलिकाओं तक पहुंच जाता है | दुर्गंध भी बढ़ जाती है | बच्चे का शरीर नीला पड़ जाता है | यह इस रोग की भयंकरतम अवस्था है , जिसके बाद बच्चे का बचना लगभग असंभव हो जाता है |

चिकित्सा

इस रोग की चिकित्सा के लिए बाजार से सुहागा लाकर उसका फूला बना ले | इसके बाद इस फूला का महीन महीन चूर्ण बना लें | इस चूर्ण की 2 - 2 रत्ती की मात्रा शहद या ग्लिसरीन में मिलाकर 3 - 3 घंटे बाद बच्चे को चटाते रहें , तथा इसे ही गले के चारों ओर लगाते भी रहे | ततपश्चात गर्म पानी से गले की सिकाई भी करें | इसके अलावा रासना , साठी की जड़ , सहींजन , अरण्ड के पत्ते , लाल चंदन , दशमूल और निर्गुंडी सभी को बराबर बराबर मात्रा में लेकर कूटकर पानी में उबालें , तथा इसकी भाप के पास बच्चे को बैठा कर उसके गले की सिकाई भी करें | ऐसा करने से भाप बच्चे के गले के अंदर पहुंचकर , गले को साफ करती रहेगी | बाद में इसके पानी से बच्चे को स्नान भी करवा दिया करेँ | इसके अलावा गले में ग्लिसरीन लगाने से गले की सूजन कम हो जाती है | रोगी को एकांत कमरे में शांत वातावरण में बिस्तर पर लिटाना शुरू कर दें , ताकि घर के अन्य बच्चे रोगी बच्चे से दूर रहा करें | बच्चे को डिप्थीरिया के प्रतिविष का इंजेक्शन भी लगवाएं , तथा हाइड्रोजन परॉक्साइड मिले पानी से कुल्ले कराएं | बच्चे को खाने में दूध , फलों का रस , चाय , कॉफी या तरल पदार्थों ही खाने को दें | यदि उपरोक्त चिकित्सा बच्चे के रोग की प्रारंभिक अवस्था में कर ली जाए , तब निश्चित रूप से बच्चे को इस तकलीफ से पूरी तरह से लाभ हो जाएगा | यदि रोग भयंकरतम स्थिति को पहुंच चुका है , तब रोगी बच्चे को किसी ;; बाल चिकित्सा विशेषज्ञ '' के पास ले जाकर उसकी चिकित्सा कराएं | क्योंकि व्यर्थ में बेकार का रिस्क लेना भी ठीक नहीं होता है |

जय आयुर्वेद


web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…