Skip to main content

[ a/11 ] इलाज ; श्वास रोग या दमा का एक ही सप्ताह में इलाज


web - gsirg.com
इलाज ; श्वास रोग या दमा का एक ही सप्ताह में इलाज
हमारे शरीर में कई महत्वपूर्ण संस्थान हैं , जिनमें श्वसन संस्थान का महत्वपूर्ण स्थान है | इसी संस्थान की प्रक्रिया द्वारा मनुष्य शरीर में प्राण वायु [ आक्सीजन ] जाती है , और दूषित वायु [कार्बन डाई आक्साइड ] बाहर निकलती है | सांस लेने की प्रक्रिया श्वास नली के माध्यम से होती है | किन्हीं कारणों से यदि श्वास नली में सूजन आ जाए या उसमें कफ जमा हो जाए तो सांस लेने में कठिनाई होती है | श्वास नलिका के संक्रमण को श्वास रोग का होना कहा जाता है , इस रोग में पीड़ित व्यक्ति को सांस लेने में बहुत ही दिक्कत होती है |
लक्षण
श्वसन संस्थान की श्वसन क्रिया का माध्यम बनने वाली श्वास नली में सूजन होना इसका एक प्रमुख कारण है | इसके लिए लोगों के आसपास का दूषित वातावरण अनियमित आहार विहार और दूषित खानपान जिम्मेदार है | वातावरण के प्रदूषण से तथा खान पान के प्रदूषण और अनियमितता से श्वास नली पर प्रभाव पड़ता है | जिसके कारण श्वास नली में कफ इकट्ठा हो जाता है | श्वास नली में कफ इकट्ठा हो जाने से वायु के आने जाने का क्रम बाधित होता है , इससे व्यक्ति को सांस लेने में कठिनाई होती है | कभी-कभी रोगी की बेचैनी और घबराहट अपनी चरम सीमा पर पहुंच जाती है | जिसके कारण वह रात को सो नहीं पाता है | पीड़ित व्यक्ति रात भर बिस्तर पर बैठा रहता है | यह दौरा प्रायः सुबह ब्रह्म मुहूर्त मैं पड़ता है | सांस लेने की कठिनाई की यह दशा कुछ घंटों से लेकर कई दिनों तक की भी हो सकती है |
श्वास रोग के प्रकार
आयुर्वेद के विशेषज्ञों ने दमा या श्वास रोग को पांच प्रकारों में बांटा है | [ एक ] महाश्वास [दो ] उर्ध्वश्वांस [ 3 ] तमकश्वास [ चार ] छीणश्वाँस और [पाँच ] छुद्रश्वाँस | इन पांच प्रकार के श्वास रोगों में महाश्वाँस को असाध्य माना गया है | इसकी चिकित्सा कर के रोगी को ठीक करना असंभव होता है | इसीतरह दूसरे और तीसरे प्रकार के श्वांस रोगों चिकित्सा सफलतापूर्वक की जा सकती है | परन्तु शर्त यह है इनका का पता प्रारंभिक अवस्था में ही चल जाए | बाकी के दो प्रकार श्वाँस रोगों का सफलतापूर्वक उपचार किया जा सकता है |
आयुर्वेद में श्वास रोग का परीक्षित और अनुभूत इलाज
आयुर्वेद में श्वास रोग का परीक्षित और अनुभूत इलाज संभव है | इस रोग की चिकित्सा करते समय चिकित्सक को पहले ही तैयार होना होता है | चिकित्सक को चाहिए कि वह दिन के समय लटजीरा के ऐसे पौधों को देख आए जिनको वह सुविधापूर्वक रात के अंधेरे में भी उसे पा सके | चिकित्सक सबसे पहले दो नग कालीमिर्च का इन्तजाम कर लेना चाहिए , इसके बाद अमावस्या की रात तक का इंतजार करें | जिस दिन अमावस्या को उस रात को घनघोर अंधेरे में अपामार्ग के पौधों के पास जाकर उसके बीस ग्राम पत्ते तोड़ लाएं | जिस समय पत्ते तोड़े जाएं उस समय किसी भी प्रकार का प्रकाश बैटरी या लालटेन उसके पास में नहीं होनी चाहिए , क्योंकि प्रकाश लग जाने से दवा का प्रभाव नहीं हो पाता है |
अपामार्ग के पत्तों को तुरंत ही घर लाकर किसी खरल में डालकर घोंटना होता है | पत्ते लगभग 2 तोले होने चाहिए , तथा पत्ते घोंटते समय 2 नग काली मिर्च जिसका इन्तजाम पहले से ही कर रखा है , मिला लेनी चाहिए | काली मिर्च का पहले से ही प्रबंध करना पड़ता हैं | खरल में दोनों ही चीजें डाल कर घोंटने के बाद अंधेरे में ही लगभग छह गोलियां बना ले | तत्पश्चात इन गोलियों को घोर अंधेरी कोठरी में अमावस्या के अंधकार में सारी रात सूखने दें | इस बात का विशेष ध्यान रखें के पत्ते को लाते जाने के समय से गोली के सूखने के लिए रखने तक , किसी भी प्रकार का प्रकाश का प्रयोग नहीं होना चाहिए
सेवन विधि
जब किसी रोगी का इलाज करना हो तो कृष्ण पक्ष की नौमी की रात्रि को एक गोली मरीज को खिलानी होती है | चिकित्सक जिस समय रोगी को दवा दे , उसे अंधेरी कोठरी में जहां दवा रखी हो , ले जाए और अंधकार में ही पानी से 1 गोली निंगलवा दे | उसके बाद अगले दिन फिर से इसी प्रकार रात मे एक गोली खिला दे | इसी प्रकार प्रतिदिन एक गोली खिलाता रहे तो एक सप्ताह में ही रोगी को श्वास रोग से पूरा लाभ मिल जाएगा | अत्यावष्यक और ध्यान देने योग्य तथ्य यह है कि जिस समय चिकित्स्क रोगी की चिकित्सा कर रहा हो | उसी के साथ ही रोगी को दिन में दो बार चवनप्राश का सेवन भी कराता रहे| इसके अलावा रोगी को दही केला खट्टे पदार्थ और ठंडे खाद्य पदार्थों से भी परहेज करना चाहिए | मदिरापान और धूम्रपान विशेष रूप से वर्जित है | खाने में ठंडी तासीर वाले किसी भी भोज्य पदार्थ का सेवन नही किया जाए तो , रोगी को 1 सप्ताह में ही पूर्ण लाभ हो जाएगा | पूर्ण लाभ हो जाने पर भी रोगी को लगभग 1 माह तक परहेज पूर्वक रहना होता है | उसे गुड़ , तेल , बासी भोजन , नमक ,मिर्च और खटाई खाने से भी परहेज करना पड़ता है | इससे उसे पूर्ण लाभ मिल जाता है , और उसका जीवन फिर से पूर्व की तरह चलने लगता है |

जय आयुर्वेद

web = gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…