Skip to main content

अब सन्तानहीनता एक कोरी कल्पना

 अब सन्तानहीनता एक कोरी कल्पना      
------------------------------------------------
क्या आप संतानहीन हैं ,और सन्तान पाना चाहते हैं
                                                    🔺     GSirg.com   🔺
------------------------------------------------

         तो ऐसे अवश्य पढ़ें 
दोस्तों इस संसार में आया हुआ हर एक प्राणी अपनी संतान की इच्छा करता है | लेकिन ईश्वर की विडंबना देखिए कि वह किसी किसी को इतनी संताने दे देता है कि वह व्यक्ति ईश्वर से कामना करने लगता है कि ,उसे अब संतान की जरूरत नहीं है | लेकिन इस दुनिया में कुछ ऐसे अभागे लोग भी हैं जिनको संतान ही नहीं होती है ऐसे लोग संतान पाने के लिए , मंदिर ,मस्जिद और गुरुद्वारा आदि मे जाकर अपनी संतानोतपत्ति के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं , तथा साधु-संन्यासियों और पीर फकीरों के चक्कर तक लगाने लगाते हैं , ताकि उन्हें किसी प्रकार से संतान की प्राप्ति हो सके | क्या उनके इन प्रयासों से उन्हें इसमें सफलता मिल पाती हैं, शायद नहीं |

जब उनके इस अथक और अनवरत किये प्रयासों में उन्हें सफलता नही मिल पाती है | ऐसे मे जब लोग बहुत दिनों तक माता पिता नहीं बन पाते हैं

तब उन संतानहीन लोगों की सोच कुछ इस प्रकार की बन जाती है
वह सोचते हैं कि
[ १ ] शायद संतान का सुख उनके भाग में नहीं लिखा है बहुत से लोगों को ईश्वर नहीं संता ने प्रदान की हैं परंतु शायद हमें सारी उम्र ऐसे ही गुजारना पड़ेगा |
[ 2 ] हमारे द्वारा इसके कई प्रकार के प्रयास तो किए लेकिन सफलता नहीं मिल पाई इसमें मेरा क्या दोष है |
[ 3 ] शायद मुझे इस संसार में ईश्वर ने दूसरों के संतानहीनता के चुभते हुएव्यंग्य बाणों को सुनने के लिए इस संसार में भेजा है |
[ 4 ] मेरे पास सब कुछ तो है क्यों ना मैं कोई बच्चा गोद ले लूं , ताकि मुझे माता-पिता ना बनने की कमी न महसूस हो |
[ 5 ] हो सकता है यह मेरे भाग्य में भी लिखा हो या मेरे पूर्व जन्मों का अभिशाप है जो मुझे इस जन्म में भुगतना पड़ रहा है |
[ 6 ] क्यों न हम भी दूसरों की तरह सरोगेसी से माता -पिता बनने की कोशिश करें , जिससे
हमें भी झूठा ही सही पर , माता -पिता होने का गौरव तो मिल सकेगा |
[ 7 ] ईश्वर हमारे ही प्रति इतना हृदयहीन क्यों है जिसने मुझे निःसन्तान बना रखा है |
निराशा दूर भगाएं , पुनः प्रयास करें
अब
माता - पिता बनना असम्भव
नही

आज के इस वैज्ञानिक युग में संतानहीनों को अब परेशान होने की कोई विशेष आवश्यकता नहीं है | उन्हें चाहिए कि वह एक बार फिर से पुनःप्रयास करें | हो सकता है कि उनके जीवन में संतान सुख लिखा ही हो | इसके लिए आपको कुछ प्रयास करने पड़ सकते हैं | जहां आप कई बार प्रयास करने के बाद भी असफल हो चुके हैं , वहां एक और प्रयास करने में कोई बुराई नहीं है |
🔺🔺 ध्यान दें - सबसे पहले आप दोनों ही लोग किसी सेक्स-स्पेशलिस्ट के पास जाएं , तथा चिकित्सक के परामर्श के अनुसार दोनों ही लोग अपना पूरा चेकअप कराएं | पूरे चेकअप के बाद आप दोनों के संतानहीन होने का कारण भी मिल सकता है | कभी कभी जीवनसंगिनी के लिए गर्भाशय का पूर्ण विकास नहीं हो पाता है , ऐसी स्थिति में वह अपने जीवन भर माँ नहीं बन पाती है | परंतु यदि आप दोनों कोई कमी नहीं है , या कोई छोटी मोटी कमी है भी , तो उसे दूर करने का प्रयास करें | हम यहां कुछ उपाय बता रहे हैं | हो सकता है इनसे आपका भला हो सके | एक बात तो आप ही स्पष्ट रुप से जान लीजिए कि अगर महिला बहन का गर्भाशय पूर्ण विकसित नहीं हुआ है | यह शारीरिक संरचना संबंधी दोष है , जिसका निराकरण नहीं किया जा सकता है | इसलिए उन महिला बहन को अपने जीवन में मां बनने की आस छोड़ देनी चाहिए |

कथन हमारा / प्रयास आपका / सफलता अवश्य मिलेगी
उपचार का प्रथम चरण - [ शरीर का शुद्धिकरण ]

हम आपको जो बताने जा रहे हैं , उसको ध्यान से पढ़कर मन में बिठाले , और यह जान लें कि जननेन्द्रियों से संबन्धित कोई भी इलाज करने से पूर्व , अमाशय का शुद्ध व साफ होना बहुत ही आवश्यक है | रोगी को कब्ज बिलकुल होना ही नहीं चाहिए | अगर यह परेशानियां शरीर में हैं तो सबसे पहले इन्हे ही दूर करने का इंतजाम करें |


उपचार का दूसरा चरण = [ जननेंद्रियों का शुद्धिकरण ]

इसके अलावा यदि महिला को प्रदर या मासिक धर्म की कोई गड़बड़ी है | तो रोगी को चाहिए कि किसी चिकित्सक से सम्पर्क कर इस परेशानी को भी दूर कर ले | अगर आप हमारी इन लेखों को पढ़ते रहे तुम्हारे विषय में आगे भी आपको बताते रहेंगे |

उपचार का तीसरा चरण - [ गर्भाशय का शुद्धिकरण ]

इसके लिए आप किसी दुकानदार से थोड़ी सी फिटकरी ले आए | अब इस फिटकरी को दर-दरा कूट लें | तत्पश्चात चूल्हे पर तवा गर्म करके इस फिटकरी का फूला बना ले | ततपश्चात इस फूला को महीन महीन पीस करके किसी शीशी में सुरक्षित रख लें | अब कोई सूती , सफेद ,और झीना कपड़ा ले | इस कपड़े की कई पोटलिया बना ले | इन पोटलियों में 3 ग्राम फिटकरी का फूला भर दे | अब पोटली का मुंह सुई धागे से सिलकर इसप्रकार बन्द करें कि धागे का छोर लंबा ही रहे | महिला मासिकधर्म की समाप्ति से 3 दिन बाद एक पोटली को अपने प्राइवेट पार्ट के भीतर रखकर , कुछ देर जमीन पर उकडूं बैठी रहे | औषधि के प्रभाव से गर्भाशय की गंदगी बाहर निकलेगी | इस तरह से 1 सप्ताह तक रोज शाम को सुविधानुसार पोटलियाँ प्राइवेट पार्ट पर रखती रहे| इससे गर्भाशय का शुद्धिकरण हो जाएगा |

उपचार का अंतिम चरण


गांव और देहातों में एक वृक्ष होता है जिसे हम बबूल या कीकर कहते हैं | किसी-किसी कीकर के पेड़ मैं चार-पांच गज की दूरी पर एक फ़ोड़ा सा निकल आता है | जिसे जिसे कीकरबंदा कहते हैं , का पता कर घर ले आएं | इसका पता लगाना थोड़ा कठिन जरूर है , लेकिन मिल जाता है | इसको छाया में सुखाकर खूब महीन महीन पीस डालें | अगला मासिक धर्म आने के 3 दिन बाद इस चूर्ण की 3 ग्राम मात्रा , अपने प्राइवेट पार्ट मे रख लिया करे,| ऐसा 3 दिन तक लगातार करती रहे | ऐसा ही आने वाली प्रत्येक माहवारी के 3 दिनों तक 3 खुराकें रखती रहें | प्रभु की कृपा से वह स्त्री अवश्य गर्भ धारण करती है | यह साधु संतों का बताया हुआ अनुपम नुस्खा है जो , कभी बेकार नहीं जाता है | इसको अपनाएं और संतान सुख से वंचित न रहे | जय आयुर्वेद 

इसे आप अपने मित्रों और परिजनों के साथ अवश्य शेयर अवश्य करें , शायद आपका एक प्रयास उनकी पूरी जिंदगी खुशियों से भर सके ||  धन्यवाद || अ 

हमारे आगे आने वाले लेख इन्हे आप अवश्य पढ़ें और लाभ उठाएं
[ 1 ] पुरुषों की गुप्त रोग की समस्याएं व निराकरण |
[ 2 ] वन्ध्या स्त्रियां भी प्रभु की कृपा बन सकती है माँ |
[ 3 ] मासिक धर्म और प्रदर की परेशानियां सरल उपाय | अ
[ 4 ] गर्भ धारण की समस्याओं का आसान निराकरण |
[ 5 ] अनचाहे गर्भ से छुटकारा पाने के प्राकृतिक उपाय |
[ ६ ] चाँद जैसा गोरा चिट्टा बेटा कैसे पाएं | |
[ 7 ]आपकी अपनी सन्तान बेटा ही होगा | ऐसा सम्भव है |



इति श्री
web - gsrig.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…