Skip to main content

[ l/1 ] कर्म और कर्तव्य

web - gsirg.com

कर्म और कर्तव्य

इस संसार में मुख्य रूप से 3 प्रकार की पुरुष पाए जाते हैं | जिनमें प्रथम और उचच स्थान पर उत्तम पुरुष माने गए हैं | इसके बाद क्रमशः मध्यम और निम्न प्रकृति के पुरुष आते हैं | इस संसार में आए प्रत्येक पुरुष को अपना जीवन यापन करने के साथ-साथ , उपरोक्त दो शब्दों [ कर्म और कर्तव्य ] से गहरा नाता बना ही रहता है | प्रत्येक मानव का यह नाता आज से नही बल्कि चिरकाल से बना हुआ है , और अनंत काल तक बना भी रहेगा , इससे कोई भी प्राणी दूर भाग नहीं सकता है |

कर्म और फल

इस संसार में आया हुआ प्रत्येक प्राणी कर्म से जुड़ा हुआ है | कर्म किए बिना कोई भी व्यक्ति संसार मे रह ही नहीं सकता है | अगर कोई यह चाहता है कि , वह कोई कर्म नहीं करेगा तो ऐसा होना असंभव ही है | प्राणी जैसे कर्म करता है , उसको वैसे ही फल भी मिलता है | बुरे कर्म करने पर उसे बुरा परिणाम , तथा अच्छा कर्म करने पर अच्छा परिणाम प्राप्त होता ही रहता है | यदि कोई यह सोचता है कि , वह कर्म न करके केवल विश्राम ही करेगा , यह उसकी यह एक प्रकार की भूल ही है , क्योंकि विश्राम करना भी एक प्रकार का कर्म ही है | इस मानदंड पर अगर देखा जाए तो कोई भी प्राणी कर्म से मुक्त नहीं है |

कर्तव्य

वैसे तो संसार में आया हुआ प्राणी तरह तरह के कार्य करता है , लेकिन जिन कार्यों को वह अपना दायित्व समझकर पूरा करता है , या पूरा करना आवश्यक समझता है , उस समय उसके कर्म अपने आप कर्तव्य के माध्यम से बंध जाते हैं | इसका परिणाम यह होता है कि व्यक्ति अपने कामों को किए बिना उस से मुक्त नहीं हो पाता है | कर्म और कर्तव्य का यह संगम , मानव को महामानव बना देता है , जिसके परिणाम स्वरुप वह अपने जीवन में पुरस्कारों से पुरस्कृत होता रहता है |

कर्म की स्वतंत्रता

जैसा कि हम जानते हैं कि कर्म , हर व्यक्ति के साथ अनवरत घटित होता रहता है | प्रत्येक प्राणी अपना कर्म करने के लिए स्वतंत्र है , साथ ही उसे अपने कर्मों की दिशा निर्धारित करने का भी अधिकार भी है | कर्म चाहे सकारात्मक दिशा में किया जाए अथवा विध्वंसक दिशा में , यह प्राणी के ऊपर निर्भर करता है | क्योंकि मनुष्य कर्म करने के लिए स्वतंत्र है | यह उसके चयन पर ही निर्भर करता है , परंतु यदि कोई प्राणी इसका स्वैच्छिक परिणामकारी फल , उसकी इच्छा के अनुरूप पाना चाहे , तो यह संभव नहीं है | क्योंकि मनुष्य कर्म करने के लिए स्वतंत्र है ,परंतु इसके परिणामों में उसे चुनाव की कोई सुविधा नहीं प्राप्त है |

कर्मफल का दाता ईश्वर

कर्म व्यक्ति को मुक्त कर सकता है , और उसे बांध भी सकता है | यही कारण है कि हर प्राणी को अपने कर्मों के अनुसार ही उसका फल भी प्राप्त करता है | प्राणी के कर्म फलों का दाता कोई और होता है , जिसे हम परमात्मा या भगवान कहते हैं | यदि निश्चित रूप से कहा जाए तो किसी व्यक्ति का , उसके कर्म फल पर किसी तरह का अधिकार या हस्तक्षेप नहीं होता है | यही कारण है कि प्राणी को बुरे कर्मों का परिणाम बुरा तथा अच्छे कामों का परिणाम अच्छा प्राप्त होता है | अपने अपने कर्मानुसार प्रत्येक प्राणी को इन दोनों प्रकार के कर्म फलों को भोगना ही पड़ता है | प्रत्येक व्यक्ति अपने कर्तव्यों से भी संबंधित होता है | यह तो सार्वभौमिक सत्य है कि , कर्म से व्यक्ति बंधा नहीं रह सकता है , और नहीं भी | इसके विपरीत कर्तव्य सदैव व्यक्ति को बांधता है | कर्तव्य को पूर्ण करने वाला व्यक्ति कभी भी पूर्ण रुप से स्वतंत्र नहीं होता है | यही कारण है कि जिन लोगों ने वैराग्य धारण किया हुआ है ,वह लोग सन्यासी अथवा विरागी हो जाते हैं | वह सबसे पहले अपने कर्तव्यों का त्याग करते हैं , उसके पश्चात ही कोई कर्म करते हैं | इस संसार में कर्म करने वाले प्रत्येक पुरुष की परीक्षा चार बातों से होती है , उसकी विद्या से , विनम्रता कुल तथा कार्य से | इन्हीं चार कसौटियों पर प्रत्येक व्यक्ति के कर्म और फल भी निर्धारित होते हैं |


किसी भी प्रकार के कर्म का फल चाहे जैसे भी हो , तथा उनके परिणाम भी चाहे जैसे हों , इनसे उदासीन रहने वाले केवल सन्यासी या विरागी ही होते हैं | क्योंकि कर्म करते समय वह सन्यास या विराग से प्रभावित अपने होकर कर्तव्यों के प्रति उदासीन हो जाते हैं | उनका इस संसार के प्रति कोई कर्तव्य नहीं होता है | उक्त के अनुकरण से ही उनके '' मुक्त पुरुष '' होने का बोध होता है | ऐसे में उनकी सोच इस प्रकार की हो जाती है कि वे चाहे कोई कर्म करें या ना करें , इससे कुछ नहीं होगा | यह लोग ऐसा कभी नहीं सोचते | उनका विचार इसप्रकार का होता है कि वह अगर वह कुछ नहीं करेंगे तो , संसार में कुछ नहीं होगा | उनका ऐसा सोचना निरर्थक ही होता है |

प्रत्येक व्यक्ति को कर्म करते समय गंभीर और निष्काम दोनों तरह का होना चाहिए | जब यह किसी कार्य को कर सकते हो तभी उनमें कार्य करने की गंभीरता का पुट होना चाहिए | अगर उनमे किसी कार्य को करने की सामर्थ्य हो तो , उन्हें पूरी तन्मयता और लगन के साथ उस कार्य को करना प्रारंभ कर देना चाहिए | इसके विपरीत यदि काम सामर्थ्य से बाहर हो तो , उसके लिए निष्काम होते हुए आनंद मनाना चाहिए , और खुश रहना चाहिए |

प्रत्येक व्यक्ति की भलाई इसी में है कि वह अपने कर्मों की गति में सुधार करें , तथा बेकार के कर्तव्यों के जंजाल में न उलझें | प्रत्येक व्यक्ति के लिए जीवन में आवश्यक कर्तव्यों का पालन करते हुए अपना कर्म करना चाहिए |

इति श्री

web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…