Skip to main content

[ q/1 ] इलाज ; नसबंदी का एक अनोखा विकल्प

web - gsirg.com

इलाज ; नसबंदी का एक अनोखा विकल्प


दुनिया का प्रत्येक प्राणी जो इस संसार में आया है , उसने बाल्यावस्था , युवावस्था , प्रौढ़ता और वृद्धावस्था जरूर प्राप्त की है | इनमें से अगर हम बाल्यावस्था को छोड़ दें , तब जीवन की प्रत्येक अवस्था में , प्रत्येक प्राणी कामवासना से ग्रसित अवश्य रहा है | मनुष्य को छोड़कर अन्य प्राणियों का जनन कॉल निर्धारित है , परंतु मानव एक ऐसा प्राणी है , जिसे वर्ष के 12 महीने , 365 दिन , 24 घंटे मे , किसी भी समय कामवासना सता सकती है | इस संसार में मानव का सबसे कठिन कार्य '' कामदेव '' को जीतना है | इस संसार का प्रत्येक पुरुष तथा महिला सभी कामदेव के वशीभूत होकर इस संसार में घोर अनर्थ करने को उतारू हो जाते हैं | ऐसा अनुमान है कि इस दुनिया के 7 0% अपराध केवल इसी से संबंधित है |


कामवासना एक प्रबल व्याधि


विभिन्न प्रकार के अपराधों का जन्म का कारण काम वासना ही है | इस कामवासना से पीड़ित स्त्री और पुरुष इस संसार में विभिन्न प्रकार के अपराधों को करने से नही हिचकते हैं | वर्तमान में जगह-जगह हो रही चोरियां , डकैतियां तथा सरेआम कत्ल आदि जघन्य अपराध किसी न किसी प्रकार से काम भावना के वशीभूत होकर ही किए जाते हैं | यह तो सभी जानते हैं कि अपराध के किए जाने कारणों में अधिकतर जर , जमीन और जोरू ही तीन मुख्य कारण होते हैं , परंतु मेरे विचार से इन में भी कहीं न कहीं कामभावना का प्रस्फुटन अवश्य होता है | अक्सर देखने में आता है कि विधवा स्त्रियां विवाहित स्त्री और बालिकाएं अपने प्रेमियों के साथ पलायन कर जाते हैं | सारांश यह है कि इस संसार में कामवासना एक प्रबल व्याधि है |


नसबंदी की आवश्यकता


यहाँ हम आपको कुछ ऐसे कारण बता रहे हैं , जिनके कारण लोग आगे की संताने नहीं चाहते हैं | या फिर वह नसबन्दी का विचार करने लग जाते है | जब किसी किसी के बहुत ज्यादा संतान हो जाती है , तब उन्हें कई प्रकार की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है , जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं |

अधिक संतान


कुछ लोगों को ईश्वर ने बहुत सी संताने दे रखी हैं , जब लोग जब उनका भलीभांति पालन पोषण नहीं कर पाते हैं , तब उनके मन में नसबंदी का विचार आता है | पर यह '' प्रमुख विचार '' आने से क्या ? लोग अनावश्यक शल्य चिकित्सा से भी बचना चाहते हैं | इसीलिए विचार आने के बावजूद भी शल्य चिकित्सा के डर से वह अपना कदम पीछे कर लेते हैं | उनका संतान न प्राप्ति करने का यह विचार भी , शल्य चिकित्सा के डर से हवा हो जाता है |

देश सेवा से प्रेरित पुरुष


कुछ लोग अपने आपको देश सेवा में लगाना चाहते हैं , इसलिए वह लोग कामवासना से दूर रहना चाहते हैं | देश की निर्बाध सेवा मे कोई अड़चन न हो , इसलिए कुछ लोग अपनेआप इस झंझट से दूर ही रखना चाहते हैं |

अन्य कारण


कुछ स्त्री तथा पुरुष , विधवा या विधुर होने के कारण भी सादा जीवन व्यतीत करना चाहते हैं | वह लोकलाज के भय अथवा उच्च मानवीय भावनाओं से प्रेरित होकर भी अपने को इस कुत्सित कामेच्छा से विरत भी रखना चाहते हैं |
ऐसी कई इच्छाओं की दमन के लिए यहाँ कुछ उपाय बताये जा रहे है | जिनका प्रयोग कर इन समस्याओं से बच सकते हैं |

हिंगूचा बूटी से उपाय


यह एक ऐसी बूटी है , जिसके प्रयोग करने से पुरुषों की कामशक्ति सदा के लिए समाप्त हो जाती है | यह बूटी उड़ीसा प्रांत के कटक जिला मे प्रचुर मात्रा में मिलती है | वहां के निवासी इस बूटी को इसी नाम से जानते हैं | इस बूटी को घर लाकर , उसके छोटे छोटे खंड कर लीजिए | इसके अलावा कागज की एक कीप भी बना लीजिए , जिसका एक सिरा फैला हो , तथा दूसरा सिरा सँकरा हो | अब बूटी के एक खंड को आग के ऊपर डालिए | कुछ समय बाद बूटी के जलने से धुआं पैदा होगा | इस धुएं को कीप के फैले वाले सिरे से गुजरकर , सँकरे वाले भाग से निकलने पर , उस कीप के सँकरे सिरे से निकलते धुयें को नाक से सूंघना शुरू करिए | ऐसा कुछ दिनों तक लगातार करने से पुरुष की काम शक्ति सदा के लिए नष्ट हो जावेगी |

केले से इलाज


काम शक्ति नष्ट करने की चिकित्सा केले द्वारा भी हो सकती है | इसके लिए सर्वप्रथम आपको केले के पौधे का पता लगाना होगा | अब किसी शाम को उस केले के तने में लोहे की चम्मच के आकार की कोई चीज प्रविष्ट करा दीजिए | फिर उसके नीचे कोई बर्तन रख दीजिए | रात भर में चम्मच द्वारा बर्तन मे केले के तने का पानी इकट्ठा होता रहेगा | अब प्रातः काल सुबह उठकर उस पानी को पी लीजिए | इसी प्रकार 3 दिन तक केले के पानी की व्यवस्था करके पीते रहिए | ऐसा करने से कुछ दिनों में पुरुष की काम शक्ति बेकार हो जाती है |

महिलाओं के लिए


पहाड़ी स्थानों पर एक वृक्ष होता है , जिसे फर्राश नाम से जाना जाता है | इसके पत्तों का रस इकट्ठा कीजिए , और अब इसमें गुंजा की दाल का चूर्ण , जिसे आपने पहले से बना रखा है , मिलाकर खूब खरल करें | खरल करते-करते जब लेसदार गाढ़ा मसाला बन जाए , तब गुंजा के परिमाण की गोलियां बना ले | बाद में इन गोलियों को छाया में सुखा लें | जब महिला को माहवारी शुरू हो | तब इससे छुट्टी पाने के 3 दिन बाद , 3 दिनों तक एक एक गोली ताजा पानी से निगलवा दिया करें | यह औषधि इतनी प्रभावशाली है कि , इसके केवल 3 दिन के प्रयोग से ही महिला की प्रजनन शक्ति नष्ट हो जाएगी | औषधि सेवन के दौरान महिला को केवल दूध और चावल खाना चाहिए | इसके अतिरिक्त कुछ भी नहीं खाना चाहिए |


उपरोक्त कुछ ऐसे प्रयोग है , जिनके द्वारा आप अपनी कामवासना को नियंत्रित कर सकते हैं | इससे आपकी परेशानियों का अंत तो हो ही जाएगा | उसके बाद आप अपना स्वतंत्र जीवन बिता सकते हैं |

जय आयुर्वेद


web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…