Skip to main content

[ s /01 ] धर्म ; असीम आनंद का आदिश्रोत है परमात्मा

code - 01

web - gsirg.com


धर्म ; असीम आनंद का आदिश्रोत है परमात्मा


इस संसार में सुख की अभिलाषा किसे नहीं होती है | अर्थात यहां पर जन्म लेने वाले प्रत्येक प्राणी को ही सुख की अभिलाषा होती है | क्या मनुष्य क्या पशु-पक्षी और क्या मूक जानवर सभी को यह चाहत किसी न किसी रूप मे अवश्य बनी ही रहती है | पक्षियों द्वारा कलरव करना , इधर उधर फुदकना , पेड़ों की डालियों पर बैठकर इतराना , चहचहाना और दाने चुगना आदि क्रियाएं करना , यह सभी कुछ और नहीं , बल्कि सुखचैन पाने की ही क्रिया कवायद है | इसी तरह पशुओं का मस्ती में आकर इधर - उधर दौड़ लगाना , कुलांचे भरना और तेज चाल से चलना सभी कुछ सुख पाने के लिए ही किया जाता है |

मानव की सुख की खोज

जब इस संसार का प्रत्येक प्राणी सुख पाने का प्रयास करता है , तो मानव ही पीछे क्यों रहे , वह भी अपने सुख की प्राप्ति के लिए तरह तरह के प्रयास करता है | क्योंकि मानव खुद को संसार के सभी जीवो मे अपने आप को सर्वश्रेष्ठ बुद्धिमान तथा जगतनियंता परमपिता परमेश्वर का प्रतिनिधि समझता है | यही कारण है कि वह समझता है कि , सुख पर उसका शाश्वत अधिकार तथा उसे पाने का प्रबल पुरुषार्थ भी है | अतः सुख की प्राप्ति के लिए वह जीवन में धन , ऐश्वर्य तथा विविध प्रकार के उपयोगी पदार्थोँ का अर्जन तथा उपार्जन करता रहता है | क्योंकि ऐसा करना वह भौतिक जीवन व भौतिक सुख की प्राप्ति के लिए तो आवश्यक समझता है , और आवश्यक है भी | पर क्या उसके इन प्रयासों से उसे वास्तविक सुख की प्राप्ति हो पाती है , शायद नहीं | वास्तव में भोग पदार्थों से प्राप्त भौतिक सुखों की सीमा , भौतिक शरीर तथा भौतिक जीवन के आस-पास ही समाप्त हो जाती है | इसका सीधा परिणाम यह होता है कि , भौतिक सुखों को प्राप्त कर लेने के बाद भी , वह व्यक्ति अतृप्त , अशांत और उदिग्न ही बना रहता है | अंत में वह जीवन भर भौतिक सुख-साधनों , विभिन्न प्रकार के भोगों के पीछे भागते-भागते रहने के बाद , भी उस मानव के हाथ कुछ नहीं लगता है | उसका सारा जीवन इसी सुख की मृग मरीचिका के पीछे दौड़ते दौड़ते समाप्त हो जाता है | इस प्रकार से उसका अनमोल और बहुमूल्य जीवन यूं ही बीत कर , शून्य हो जाता है |

मानव जीवन की अपूरणीय क्षति

अवास्तविक सुखों की प्राप्ति मे मानव का संपूर्ण जीवन शून्य हो जाना उसकी सबसे बड़ी क्षति है | क्या मानव जीवन को इससे भी बड़ी कोई अन्य क्षति हो सकती है | शायद नहीं , हरगिज़ नहीं | अतः उसे अब यह जान लेना चाहिए और मान लेना चाहिए कि अब तक उसने जो गंवा दिया है | उसको भूलकर वह वास्तविक सुखों की प्राप्ति के लिए अब देर न करे | क्योंकि विविध भोग पदार्थों से प्राप्त सुख शाश्वत नहीं है , बल्कि नश्वर है | संसार के अवास्तविक सुख , इंद्रियजन्य तथा क्षणिक हैं | इनकी प्राप्ति कर लेने अथवा भोग लेने के बावजूद भी , अंत तक हमारी इच्छाएं अतृप्त ही रहती हैं , क्योंकि उनको पाने की इच्छा हमारे मन में सदैव बनी रहती है | जिस प्रकार अग्नि में कुछ भी डाल देने से अग्नि बुझती नही बल्कि और तेजी से प्रज्वलित हो जाती है | ठीक इसी प्रकार प्रत्येक मानव के मन मे सुखो दर सुखों की प्राप्ति के उपरांत भी , इनके पाने की लालसा बढ़ती ही रहती है | मानव मन की यह अभिलाषा रूपी अग्नि कभी भी कदापि बुझती या समाप्त नहीं होती है | अंत में यह भी कहा जा सकता है , कि भोग पदार्थों तथा भौतिक सुख साधनों से सुख पाने की अंतहीन लालसा से ठोस रूप में कुछ भी प्राप्त नहीं किया जा सकता है |

जीवन व्यर्थ ना जाने दे

इस संसार के सभी मानवों को अपने से बड़े बड़ों की जीवनी पर एक निगाह अवश्य डालनी चाहिए | ऐसा करने से आपको बहुत से ऐसे लोग मिल जाएंगे , जिन्होंने अपनी सारी उम्र बचपन से लेकर बुढ़ापे तक , भौतिक सुखों के पीछे भागते हुए गुजारा होगा | धन वैभव और विभिन्न प्रकार की इच्छाओं की पूर्ति मे उन्होंने अपना पूरा जीवन समाप्त किया होगा | परंतु वृद्धावस्था या उम्र के अंतिम पड़ाव पर उन्हें यह कहते हुए पाया होगा कि , उनका तो सारा जीवन ही व्यर्थ गया | संपूर्ण जीवन बीत जाने के बाद भी , उन्हें कुछ प्राप्त नहीं हुआ | यानी नतीजा शून्य हीं रहा | ऐसे लोगों ने अपने जीवन में भौतिक सुख-साधनों को पा लेने के बाद भी अपने जीवन को अधूरा , अपूर्ण और एकांगी ही पाया होगा | दूसरों के संपूर्ण जीवन को देखकर , प्रत्येक मानव को इस पर विचार करना चाहिए | \\\\

🔺आनंद प्राप्ति का सच्चा मार्ग

उपरोक्त सभी सुखों का विवेचन करने के उपरांत , मानव को एक सच्चे गुरु की खोज करनी चाहिए , जो उसे सुख प्राप्ति का सच्चा मार्ग दिखा सके | सच्चा गुरु ही आपका सही मार्गदर्शन कर सकता है | जिससे आपका जीवन सच्चे सुखों से ओतप्रोत हो सकता है | एक सच्चा गुरु ही बता सकता है कि , जीवन में शाश्वत सुख व आनंद की प्राप्ति का सही मार्ग सद्गुरुओं , संतो और शास्त्रों से ही मिल सकता है | सच्चा मार्ग बताते हुए वह आप को यह भी जानकारी प्राप्त करा देगा कि , वास्तव में इंद्रियजन्य सुख, भौतिक साधनों, भोग- पदार्थों से पाया गया सुख, सच्चा सुख है ही नही , बल्कि यह सुख तो केवल सुख की मृग मरीचिका मात्र है | सच्चे सुखों को पाने की लालसा में इस संसार के बहुत से लोगों ने अपने अनमोल जीवन नष्ट कर दिए है | उनके अनेकों प्रयासों से भी उन्हें सच्चा सुख प्राप्त नही हुआ है | सच्चे सुख की प्राप्ति के लिए मानव को संतो सद्गुरुओं ऋषियों तथा मुनियों का सानिध्य प्राप्त करके ही पाया जा सकता है |

आत्मा ईश्वर का प्रकाश रूप है

निस्संदेह , ईश्वर ने सृष्टि की रचना की है | इस रचना की सुंदरता के लिए उसने पेड़ , पौधे , वनस्पतियां , सागर , पहाड़ , नदियां , सूर्य और चंद्रमा आदि का निर्माण किया है | प्रत्येक जीवआत्मा में उसी का सनातन अंश विद्यमान है | इस देह के भीतर स्थित यह आत्मा , अविनाशी और नित्य है | हमारी आत्मा भी ईश्वर का ही प्रकाश प्राप्त कर उससे जुड़ने की कोशिश करे | यह जड़ नहीं , बल्कि चेतन है | इसतरह से यह सिद्ध होता है कि सुख व आनंद की प्राप्ति भोग पदार्थों से न होकर , आनंद की आदि अनादि अनंत स्रोत ईश्वर से जुड़कर ही हो सकती है | जब हम अपनी अंतस मे जन्म-जन्मांतरों से सुप्त , आत्मा को योगाग्नि व ब्रम्हाग्नि से तथा बारंबार के अभ्यास से जागृत कर नही लेते हैं तबतक हमें सच्चा सुख प्राप्त नहीं हो सकता है | यदि हमने आत्मा को जागृत कर लिया फिर तो विराट ब्रह्म से प्रदीप्त उस अग्नि के आलोक से जीवन प्रदीप्त हो उठेगा | और तब ही मानव को अपने जीवन में सच्चे सुख की अनुभूति हो सकेगी |


इति श्री

web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…