Skip to main content

[ s/1 ] धर्म ; यह संसार एक मृगतृष्णा है

web - gsirg.com



धर्म ; यह संसार एक मृगतृष्णा है


इस अखिल ब्रम्हांड में एक छोटी सी रचना के रूप में दिखाई देने वाला यह संसार , आकर्षणों की खान है | यहां पर निवास करने वाले प्रत्येक मानव को यह संसार अपनी ओर आकर्षित करता है , अर्थात अपनी ओर खींचता रहता है | संसार के इस आकर्षण का कोई अंत नहीं है , यदि एक प्रकार से कहा जाए तो यह आकांक्षा , तृष्णा , वासना तथा कुछ अन्य होने की चाहत में बसता है | मानव के मन में जितना ही अधिक आकांक्षाएं और वासनाएं होंगी , उतना ही अधिक संसार के प्रति आकर्षण भी होगा | यह सब होने के बावजूद भी यह संसार न तो किसी का हुआ है , और न ही किसी का होने वाला है , क्योंकि यह तो आभासी सत्य है तथा साथ ही आभासी सुख की प्रतीति है | यही कारण है कि इतना तो सत्य है कि यहां किसी को सुख मिल पाया है , और मिल भी नहीं पायेगा |

संसार के आकर्षणों में विविधता

प्रत्येक मानव का संसार के प्रति आकर्षण गहरा होता है तथा यह आकर्षण के अनेकों प्रकार भी हो सकते हैं जैसे धन का आकर्षण | धन पाने की इच्छा करने वाले के लिए यह संसार , धन के आकर्षण का केंद्र है | इस संसार के अनेकों प्राणी धन प्राप्ति की इच्छा को पूर्ण करने के लिए अनेकों प्रयास करते रहते हैं | प्रत्येक आदमी के घन की चाहत भी अलग अलग ढंग की होती है | किसी को धन इसलिए चाहिए कि , वह इससे आभूषण और कीमती वस्तुएं खरीद सके | जिससे उसका जीवन विलासिता और वैभव से परिपूर्ण बना रहे | कोई कोई पुरुष तो विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों की पूर्ति के लिए धन चाहते हैं , ततो कोई स्वाद के लिए, तथा कुछ को अन्य उद्देश्यों की पूर्ति के लिए धन की आवश्यकता होती है |


धन के आकर्षण का अन्त नहीं

धन का आकर्षण कभी समाप्त नहीं होता , क्योंकि मानव मन चंचल होता है | इसलिए सभी का धन के प्रति आकर्षण भी अलग-अलग प्रकार का होता है | व्यक्ति को अपने जीवन में , सके आकर्षण से कभी मुक्ति नहीं मिल पाती है | इस तथ्य को इस प्रकार भी समझा जा सकता है कि , यदि किसी को '' किसी आवश्यकता '' की पूर्ति के लिए पर्याप्त धन मिल जाए , तब उसकी धन की इच्छा समाप्त हो जानी चाहिए , परंतु एक आवश्यकता की पूर्ति होने के बाद , उसे फिर से दूसरी इच्छाओं की पूर्ति के लिए पुनः पुनः इसकी आवश्यकता महसूस होने लगती है | इसके उपरांत वह फिर से अन्य इच्छाओं की पूर्ति में संलग्न हो जाता है | इसका कारण है जैसे-जैसे धन की प्राप्ति होती जाती है , वैसे वैसे ही उसकी तृष्णा भी बढ़ती चली जाती है , क्योंकि मानव तृष्णाओँ का कभी अंत नहीं होता है | इसीलिए उसकी यह अंतहीन खोज कभी समाप्त नहीं होती है | इस अंतहीन खोज मे ही संसार बसता है | संसार के इसी आकर्षण फँसकर उसीमे ही धीरे धीरे उसका जीवन समाप्त होता जाता है |

मृगतृष्णा है यह संसार

जिस प्रकार से रेगिस्तान में प्यास से व्याकुल हिरण , भ्रांति के कारण रेत के टीलों को पानी का स्रोत समझकर इधर उधर भटकते हुए अपने प्राणों का अंत कर लेता है , ठीक उसी प्रकार विभिन्न प्रकार की तृष्णाओं में फंसा हुआ प्राणी भी इनकी पूर्ति में भटकते भटकते अपना जीवन समाप्त कर लेता है | मानव की इन लालची प्रवृतियां की पूर्ति का कोई अंत नहीं होता है | एक इच्छा की पूर्ति होने के बाद उसकी दूसरी इच्छा का प्रारंभ शुरू हो जाता है | जितनी त्वरा और तीव्रता से मानव की एक के बाद एक इच्छाओं की पूर्ति होती रहती है , उतना ही उसका उसके प्रति आकर्षण भी बढ़ता जाता है | मानव की यह ललक या चाहत कभी समाप्त नहीं होती


मुफ्त में कुछ नहीं मिलता

यह तो सभी जानते हैं कि संसार में किसी को कोई भी चीज मुफ्त नहीं मिलती है | जिसप्रकाऱ कुछ पाने के लिए , कुछ खोना भी पड़ता है | ठीक उसीप्रकार मानव को भी इसके लिए उसे छोटी या बड़ी कीमत चुकानी पड़ती है | कभी कभी मानव को ऐसा लगता है कि , उसे कुछ चीजों की प्राप्ति तो हो गई है , लेकिन उसने उसकी कोई कीमत नहीं चुकाई है | परन्तु यह उसका एक प्रकार का भ्रम ही हो सकता है | ऐसा हो सकता है कि उसे प्रत्यक्ष में ऐसा लगे कि उसने अपनी किसी इच्छा की पूर्ती के लिए कोई कीमत न चुकाई हो | परंतु उसे उसकी अदायगी अपने पुण्यों के माध्यम से अवश्य करनी पड़ती है |

साधना का सिद्धान्त

इस विषय से संबंधित साधना का एक महत्वपूर्ण सिद्धांत यह है कि , व्यक्ति के पुण्य और तप की ऊर्जा उस दिशा में प्रवाहित ही होती है , जिस दिशा में उसके विचार और भाव प्रवाहित होते हैं | यही कारण है कि जब जब आदमी के मन में संसार के प्रति आकर्षण बढ़ता है , तब तब उसकी ऊर्जा भी उसी दिशा में नियोजित होने लगती है | अतः जब प्रत्येक मानव को इसकी कीमत उसे जब अपने पुण्यों से चुकाना पड़ता है , तब उसको होने वाला यह भ्रम टूट जाता है |

मूल्यों का भुगतान अवश्यम्भावी

इसीलिए जब कोई सोचता है कि उसने अपनी तृष्णा की पूर्ति का मूल्य अदा नहीं किया है , तब उसकेपुण्य उसका मूल्य झुकाते हैं | इसीलिए आदमी को चाहिए की वह इस तथ्य को समझे कि , इस संसार मे केवल सुख की प्रतीति होती है , परंतु यहां पर सुख है ही नहीं | गृहस्थ जीवन में संचित पुण्य , तृष्णाओं की कीमत अदा करते करते खत्म होते रहते हैं |

संसार के मायने

संसार का अर्थ ही है , सुख की खोज में भटकने वाला भ्रमित मन | इसीलिए जितनी जल्दी हो सके इस भ्रम से बाहर निकलने का प्रयास करना चाहिए | इसका केवल एक ही रास्ता है कि , व्यक्ति को उसकी भूल का एहसास होना चाहिए | इसका अहसास हो जाने पर ही वह फिर से तपस्या के पथ का चयन कर , एक दिन संसार के आकर्षण से मुक्त हो सकता है | अर्थात संसार की मृगतृष्णा से मुक्ति पा सकता है |

इति श्री



web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…