Skip to main content

धर्म ; हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी का अतीत आज के परिवेश मे

helpsir.blogspot.in

|धर्म ; हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी का अतीत आज के परिवेश मे

प्रत्येक देश की भाषा उस देश की अस्मिता का आधार होती है | हमारे पास अपने भावों को व्यक्त करने का सर्वश्रेष्ठ माध्यम भाषा होती है , जिसके द्वारा ही हम अपने विचारों को दूसरों को सम्प्रेषित करते हैं , और दूसरों के विचारों को आत्मसात करते हैं | विचारों का प्रकटीकरण भाषा के माध्यम से ही संभव है | यही कारण है कि विश्व के सभी देशों कि एक अपनी एक निश्चित भाषा होती है | प्रत्येक देश की अपनी भाषा उसकी अपनी अस्मिता बनाए रखने के लिए निरंतर संघर्ष करती रहती है | संघर्ष की यह छटपटाहट विश्व की अनेक छोटे-छोटे देशों में देखी जा सकती है |

ऐसा कहा जाता है कि , विश्व के लगभग समस्त देश अपने अतीत में अंग्रेजों के गुलाम रहे हैं | एक समय यह भी था जब अंग्रेजों के राज्य में सूर्य अस्त नहीं होता था | प्रत्येक देश ने विभिन्न प्रकार के प्रयासों और संघर्षों के बाद अपने देश को आजाद कराया | हर देश के स्वतंत्रता संग्राम और स्वाधीनता आंदोलन का आधार वहां की भाषा ही रही है | हर देश के वीर , बलिदानी विचारको और प्रेरकों ने अपनी भाषा में ही अपने देश के लोगों को स्वतंत्रता के लिए आंदोलित और उत्तेजित किया है | उनके सशक्त प्रयासों के बाद ही उस देश को औपनिवेशिकता से मुक्ति मिल पाई है | भाषा की शक्तिशाली मानसिकता से ही उन देशो ने आजादी प्राप्त कर पाई है |

प्रत्येक देश का यह दुर्भाग्यवस भाषा की वर्तमान स्थिति इतनी संवेदनशील है कि भाषा के प्रश्न को गैर राजनीतिक ढंग से सोचना भी संभव प्रतीत नहीं होता है | हमारे देश की राष्ट्रभाषा हिंदी विश्व की महानतम भाषाओं में है , लेकिन विश्व पटल पर इसे इतना महत्व नहीं मिल पाया है , जो उसे मिलना चाहिए था | हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी एक विशाल समाज की भाषा है | अगर हमें बहुसंख्यक नागरिकों के संपर्क में रहना है तो अनिवार्य रूप से हिंदी को महत्व दिया जाना चाहिए | आज विश्व के अनेक विकसित और विकासशील देश हिंदी की महत्ता को समझने लगे हैं | यही कारण है कि एक स्विस बहुराष्ट्रीय कंपनी अपने देश में हिंदी को प्रोत्साहित और प्रचारित करने के लिए , हिंदी सिखाने का बहुमूल्य प्रयास कर रही है | इसके अलावा TV पर विदेशी चैनल भी हिंदी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं | इसका प्रमुख कारण है उन्हे अपने उत्पादों के तकनीकी महत्व, जरूरी सूचनाएं, तथा अपने उत्पादों के विज्ञापन हिंदी भाषा वाले देशों के बीच में करना होता है | उपरोक्त विवरण से ही हिंदी भाषा की महत्ता को आसानी से समझा जा सकता है | यह एक सर्वविदित तथ्य है कि , भविष्य के प्रति कालखंड में भाषा ही सत्ता ही मुखापेक्षी रही है | वैसे तो हमारे देश की प्राचीन भाषा संस्कृत है | हमारे देश मे प्राचीन समय का प्रत्येक कार्य संस्कृत भाषा में हुआ करता था | उसके बाद के प्रत्येक कालखंड में जब जब हम गुलाम रहे , हमारी भाषा के साथ अन्याय होता रहा है |पहले हमारा देश मुस्लिमों का गुलाम रहा था , जिसके कारण यहां पर फारसी भाषा को लोगों ने अपनाया , जिसका प्रभाव आज भी हमारे यहाँ दृष्टि गोचर हो रहा है | इसी तरह जब हम मुस्लिमों के बाद अंग्रेजों के गुलाम हुए , उस समय अंग्रेजों के चतुर चालाक कूटनीतिज्ञों ने बड़ी ही चतुराई के साथ एक प्रकार का षडयंत्र किया , उन लोगों के षडयंत्र का ही नतीजा था | कि हमारे देश के कुछ सभ्य और सम्मानित नागरिकों ने भी अंग्रेजी को प्रतिष्ठित विकसित और पल्लवित होने का अवसर प्रदान किया | अंग्रेजी शासकों में लार्ड मैकाले एक विकृत मानसिकता वाला एक ऐसा अंग्रेजी शासक था जिसने हिंदी भाषा को अपूरणीय क्षति पहुंचाई | तत्कालीन हमारे देश की गुलाम मानसिकता के लोग , अंग्रेजों के इस कुत्सित षड्यंत्र को समझ नहीं पाए , जिसका परिणाम आज हमारे सामने है |

दुनिया के बहुत सारे लोग अंग्रेजी भाषा को अंतरराष्ट्रीय स्तर की भाषा प्रचारित करते हैं | परन्तु यह सही नही है | यह जरूर है कि विश्व भर में इस अंग्रेजी से देशाटन , व्यापार शिक्षा संचार आदि के क्षेत्र में इसका लाभ मिलता है , परंतु अंग्रेजी भाषा , हमारी हिंदी भाषा से अधिक संपन्न नहीं है | आज भी साम्राज्यवादी देश अपने उपनिवेशों में अपनी भाषा और संस्कृति को थोपने का प्रयास करते रहते हैं , क्योंकि उनका सोंचना होता है अथवा उन्हें यह आभास होता रहता है कि , सैन्य बल से अधिक प्रभावी भाषा बंल होता है | यदि किसी देश की भाषा और संस्कृति की मानसिक दास्तां सदियों तक चलानी है तो उस देश की भाषा और संस्कृति को नष्ट करके ही वे अपनी भाषा और संस्कृति को वहां पर थोपना ही आवश्यक होगा |

हमारे देश की राष्ट्रभाषा हिंदी है , और हमारी सभी देशवासियों का इसके प्रति लगाव होना ही चाहिए तथा इसे भावनात्मक रूप से अपने दिल में बसाना भी चाहिए , क्योंकि आगे आने वाले समय में हो सकता है कि किसी कारण से इसमें व्यतिक्रम आ जाए , परंतु यह व्यतिक्रम चाहे जिन कारणों से हो , स्थाई रूप से नहीं हो सकेगा | बीते हुए समय में जिस तरह से हमारे देश के क्रांतिकारियों ने हमारी अपनी भाषा की अस्मिता को बचाने सहेजने , और सुधारने करने का काम किया है वह प्रशंशा करने योग्य हैं | हमें दूसरों के षड्यंत्र को समझना होगा , और लोगों को समझाकर उन्हे हिंदी भाषा की ओर प्रेरित करना होगा | इससे हमारी हिंदी भाषा की खोई हुई प्रतिष्ठा वापस मिल सकेगी और इसका महत्व भी बढ़ जाएगा , तथा निरंतर बढ़ता ही रहेगा | अगर आप मेरी बात को समझ पाए हो तो अभी से यह संकल्प करें कि , हमें अभी से हिंदी भाषा को बचाने उसको समृद्ध करने और प्रचारित करने के लिए कटिबद्ध होना है |

समाप्त⇃λ🚩🚩

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…