Skip to main content

धर्म ; निष्काम कर्म ही कर्मयोग है

Web - gsirg.com

धर्म ; निष्काम कर्म ही कर्मयोग है
इस संसार में व्यक्ति का जन्म आज से करोड़ों वर्ष पहले हो चुका है | आदि काल में मानव केवल अपनी जरूरतों से संतुष्ट हो जाता था | उसे अपनी जरूरतों के लिए अत्यंत परिश्रम करना पड़ता था | समय के साथ धीरे-धीरे जीवन आसान होता गया , और आज कल मनुष्य की लगभग सभी जरूरतें आसानी से पूरी हो जाती है | जरूरतें पूरी हो जाने के बाद मानव ने संपन्नता , मान , सम्मान , यश और न जाने क्या क्या प्राप्त कर लिया है | प्राणी इसी मे अपनी खुशियों को ढूंढता रहता है | सभी की खुशियों की एक लंबी सूची हो सकती है | जिसमें उसकी कुछ खुशियां पूरी हो जाती हैं और कुछ अधूरी रह जाती हैं |
खुशियों की काल्पनिक खोज
प्रत्येक व्यक्ति अपने अपने ढंग से खुशियों की खोज में लगा हुआ है | परंतु यह खुशियां किस-किस के ऊपर टिकी हुई है , यह जानना भी अत्यावश्यक है | हमारी खुशियां कर्मफल के ऊपर तथा परिणाम के ऊपर टिकी हुई है | यदि किसी कार्य के करने मे से परिणाम को हटा लिया जाए , उस समय केवल व्यक्ति अपने कर्म तक सीमित हो जाएगा | जब व्यक्ति फल की इच्छा नहीं करता है , तब ही उसे संतोष मिल पाता है | जो परिणाम से कई गुना अच्छी है | लेकिन आजकल व्यक्ति किसी कर्म का परिणाम पाकर ही प्रसन्न होता है | वास्तव में खुशी और संतोष में बहुत बड़ा अंतर है | जिस समय व्यक्ति को संतोष की प्राप्ति हो जाती है | उससमय उसे दुनिया की सभी खुशियां प्राप्त हो जाती हैं | एक प्रकार से अगर देखा जाए तो व्यक्ति का कर्म ही प्रधान है | उससे खुशियां प्राप्त करना या संतोष प्राप्त करना उसी पर निर्भर करता है |
कर्म ही प्रधान है
इस संसार में हर व्यक्ति का कर्म ही प्रधान होता है | अच्छे कर्मों के द्वारा ही किसी को संतोष की प्राप्ति होती है | संतोष पाने के बाद उस समय की स्थिति उसके लिए आनंद की स्थिति होती है | इसके बाद उसे कुछ भी सोचने की जरूरत नहीं होती है | उपरोक्त विवेचन से स्पष्ट है कि व्यक्ति को कर्म ही करना चाहिए , उसके परिणाम की आशा नहीं करनी चाहिए | उसके कर्मों का परिणाम तो उसे उसके आराध्य देव से मिलेगा ही | इसमें कोई संदेह नहीं है | गीता में अर्जुन को उपदेश देते हुए श्रीकृष्ण भगवान ने कहा था कि व्यक्ति को कर्म करना चाहिए , उसके फल की आशा नहीं करनी चाहिए | क्योंकि फल को तो ईश्वर ही देने वाला होता है | इस संबंध में यहाँ एक उदाहरण यहां प्रस्तुत किया जा रहा है |
एक उदाहरण
मान लीजिए कि कोई बच्चा पढ़ाई कर रहा है | वह पढ़ाई में अपना मन भी लगाता है | और ध्यान लगाकर अपना पठन पाठन कार्य भी करता है | यह उसका कर्म है | परंतु यदि वह आशा करें की अच्छी पढ़ाई के बल पर उसे अच्छी नौकरी मिल जाएगी , तब इसमें संदेह है | भविष्य में उसकी पढ़ाई से नौकरी मिलेगी या नहीं निश्चित नहीं है | तात्पर्य यह है कि पाटन पाटन से यदि वह परिणाम स्वरुप नौकरी प्राप्त करने की आशा करता है | तो उसके पूरा होने में संदेह है | परंतु पठन पाठन से उसे जो ज्ञान प्राप्त हुआ है , वह निश्चित रूप से उसी का होगा | यह उसका कर्म फल होगा | पढ़ाई के बाद उसका मन नौकरी पाने की खुशी और ना खुशी के बीच झूलता रहेगा | इससे उसे कभी शांति नहीं मिल सकेगी | इसलिए व्यक्ति को चाहिए कि वह अपने कर्म पर तथा अपने कर्तव्य पर ध्यान केंद्रित करें | क्योंकि उसे जो मिलने वाला है वह इसी से प्राप्त हो सकता है |
कर्म की धारा
प्राणी के कर्म की अनेकों धाराएं हैं | उन्हीं में से कर्म की एक धारा का नाम है धार्मिकता | धार्मिकता की प्राप्ति चोटी रखने , तिलक लगाने तथा प्राणायाम करने से नहीं प्राप्त होती है | यह तो एक प्रकार का दिखावा या आडंबर होता है | इसके द्वारा अबोध जनता को ठगा तो जा सकता है , लेकिन उसका कल्याण नहीं किया जा सकता | इस प्रकार का लोकव्यवहार करने वाला मनुष्य जनसामान्य द्वारा ढोंगी कहा जाता है , और लोग उसे कभी सम्मान की दृष्टि से नहीं देखते हैं | लोगों द्वारा उसे पीठ पीछे अपमान ही मिलता है | अतः धर्म की इस स्थिति को त्याज्य की मानना चाहिए |
धर्म का अर्थ है कर्म
प्राणी को इस सत्य को हरदम स्वीकार करना चाहिए , कि धर्म क्षेत्र ही कर्म क्षेत्र है | अर्थात धर्म का मतलब केवल कर्म से है | आदमी के कर्म ही श्रेष्ठ होते हैं | तब ही लोग हृदय से उसका सम्मान करते हैं | इस प्रकार सतकर्म से ही आदमी को आनंद मिलने लगता है | यहाँ इस तथ्य को समझना समीचीन होगा | यदि कोई अपना कर्म पूरी ईमानदारी के साथ करता है | इसलिए उसे अपने कर्म को अपना फर्ज समझकर पूरा करना चाहिए | अपने कर्मों द्वारा फर्ज की पूर्ति करने वाले व्यक्ति को ही कर्मयोगी कहा जा सकता है | इसलिए प्रत्येक व्यक्ति को अपने सत्कर्मों को करते रहते जाना चाहिए | इसी प्रकार के कर्म करते हुए उसे कर्मयोगी की उपाधि प्राप्त हो सकती है | हर व्यक्ति को यह जान लेना चाहिए कि शरीर के साथ-साथ अन्य लोगों के साथ भी हमारे कई प्रकार के फर्ज होते हैं | एक कर्मयोगी को उसे पूरा ही करना होता है |
शरीर ही जीवात्मा का मंदिर है
संसार में जितने भी कर्मयोगी हुए है | उन्होंने अपने ज्ञान द्वारा यह जान लिया है कि शरीर के साथ भी हमारा फर्ज यह है , कि शरीर ही हमारा घर है | हमारा घर अर्थात जीवात्मा का मंदिर है , जहां जीवात्मा निवास करती है | इसलिए शरीर को संयम के द्वारा तथा सुरक्षा के द्वारा कायदे से रखना होगा | जो भी प्राणी शरीर के इस रहस्य को जान जाता है , और उसके लिए प्रयासरत होकर सफलता प्राप्त करता है उसे ही धर्मात्मा कहा जा सकता है | यह धर्मात्मा ही कर्मयोगी कहलाता है | उसे अपनी शक्तियों का उपयोग करने के लिए नहीं , बल्कि उसका उपयोग करने के लिए सदैव तैयार रहना चाहिए | तभी उसे जीवन का आनंद प्राप्त हो सकता है , और तभी वह अपने धर्म कर्म से धर्मात्मा अर्थात कर्मयोगी बन सकता है | इस संसार में प्रत्येक व्यक्ति को कर्म के स्वरूप , कर्म के सिद्धांत और कर्म के आदर्शों की जानकारी होना ही चाहिए | क]उसी के अनुरूप कार्य करके ही उसे संतोष प्राप्त हो सकता है | इसलिए उसे जीवन में कर्म फल की आशा न करके केवल कर्म पर ध्यान लगाना चाहिए | तब ही उसे कर्मयोगी की सर्वोच्च स्थित की प्राप्ति हो सकेगी |

इति श्री

Web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

[ q/9 ] Tratamentul; O alternativă unică la sterilizare

web - gsirg.com

 Tratamentul; O alternativă unică la sterilizare

 Fiecare creatură din lume care a venit în această lume, el a câștigat definitiv copilarie, adolescenta, maturitate si batranete | Dintre acestea, dacă părăsim copilăria, atunci în fiecare etapă a vieții, fiecare creatură suferă de dorința sexuală. Cu excepția unui om determinat generație apel la alte creaturi, dar omul este o ființă care, în 12 luni ale anului, 365 de zile, 24 de ore, poate cicălitoare sex în orice moment | Cea mai dificilă sarcină a ființelor umane în această lume este să câștige "Cupid". Fiecare bărbat și femeie din această lume este absorbit de toți muncitorii și începe să facă nenorociri teribile în această lume. Se estimează că doar 70% din criminalitatea mondială este legată de acest lucru.


 Libido o tulburare puternică


  Cauza nașterii diferitelor tipuri de infracțiuni este dorința. Femeile și bărbații care suferă de această dorință sexuală nu ezită să facă diferite tipuri de crime în ac…

सजा

web - gsirg.com


सजा
एक प्रतीकात्मक क्षेपक जो आपकी सोंच बदल देगा
⧭किसी स्थान पर एक बहुत ही प्रसिद्ध महात्मा रहा करते थे |उनकी ख्याति उस क्षेत्र के आसपास फैली हुई थी |ज्ञानी , धार्मिक और विद्वान होने के कारण , उस क्षेत्र के कई जिज्ञासु पुरुष , उनके शिष्य बन गए | उनके शिष्यों में एक शिष्य ने , अपने गुरु के आशीर्वाद से , जब सभी प्रकार की शिक्षाएं प्राप्त कर ली , तो गुरु की आज्ञा प्राप्त कर , वह जन कल्याण के लिए बाहर भ्रमण की सोचने लगे | गुरुजी ने उनके मन में छिपी परोपकार की भावना को जानकर , उन्हें अपने आश्रम से सहर्ष , आशीर्वाद देते हुए खुशी खुशी अन्यत्र भ्रमण करने की इजाजत दे दी | गुरु की आज्ञा पाकर महात्मा जी देशाटन को निकल पड़े | एक जगह पर मनोरम स्थान देखकर , उन्होंने एक कुटिया बना ली | महात्मा जी ज्ञानी पुरुष तो थे ही इसलिए उनकी भी प्रशंसा चारों को फैल गई |

⧭महात्मा जी की कुटिया के पास के एक गांव में एक वृद्ध महिला रहती थी | एक समय उसका बेटा बहुत बीमार पड़ गया | उस बुढ़िया ने अपने बेटे की हर संभव चिकित्सा की , परंतु उसे कोई लाभ नहीं मिला | तब गांव वालों ने उ…