Skip to main content

इलाज ; कुष्ठ रोग जानकारी और बचाव

web - gsirg.com

इलाज ; कुष्ठ रोग जानकारी और बचाव


यह एक घृणित रोग है | इस रोग में आदमी के शरीर के अंगों का गलना शुरू हो जाता है | इस रोग से प्रभावित अंगों से दुर्गंधयुक्त मवाद निकलने लगती है , धीरे-धीरे रोगी के यह अंग गल गल कर बहने लगते हैं | रोग की चरमावस्था पर धीरे-धीरे के अंग शरीर से गायब या समाप्त हो जाते हैं | जिसके कारण कोई अन्य व्यक्ति उसके पास उठता बैठता या खाता पीता नहीं है | इसके अलावा वह रोगी से किसी प्रकार का संबंध भी नहीं रखना चाहता है | दूसरे शब्दों में अगर कहा जाए तो लोग ऐसे रोगी को घृणा की दृष्टि से देखते हैं | इस रोग का रोगी स्वयं भी अपने आप से घृणा करने लगता है , कभी-कभी तो रोगी रोग से परेशान होकर आत्महत्या करने का विचार भी करने लगता है |


कुष्ठ हर चूर्ण बनाना


कुष्ट के रोगी को चाहिए कि वह अपने रोग से निजात पाने के लिए यह चूर्ण बना ले | इसके लिए रोगी को बकायन नामक वृक्ष के बीज इकट्ठा करना होता है | इन बीजों की मात्रा जब 2 किलो ग्राम के लगभग हो जाए , तब इनकी साफ-सफाई कर ले , ताकि उन पर लगी धूल मिट्टी आदि निकल जाए | अब इन बीजों की आधी मात्रा यानी 1 किलो बीज , लगभग 12 से 13 किलोग्राम पानी में भिगो दे | इन बीजों को 7 दिन तक लगातार पानी मे भिगोने के बाद उस पानी मे ही खूब मल छान कर बीजों को फेंक दे , और पानी को सुरक्षित कर ले | शेष बचे 1 किलोग्राम बीजों को कूट-पीसकर कपड़छन चूर्ण बना ले |


सेवन विधि


इस चूर्ण की 10 ग्राम मात्रा प्रातः काल नित्य क्रियाओं से निबटने के बाद बिना कुछ खाये पिए , अपने मुँह मे भर ले | इसके बाद ऊपर से बीजों का बनाया हुआ पानी 50 ग्राम की मात्रा में भी पीते हुए चूर्ण को उदरस्थ कर ले | इस चूर्ण का 20 से 22 दिन लगातार प्रयोग करने के बाद रोगी के अंगो का गलना बंद हो जाएगा , तथा रोग भी समूल नष्ट होता जायेगा | देखने में तो यह एक सरल उपाय दिखाई पड़ता है , परंतु अपने प्रभाव से यह रोग को समूल नष्ट करने की ताकत रखता है |


रोगी का भोजन


औषधि के सेवनकाल में रोगी को चाहिए कि बहुत ही सादा भोजन ही करे | भोजन में चने के बेसन से बनी रोटियां , तथा देसी गाय का घी ही प्रयोग करे | बाजारों में बिकने वाले वेजिटेबल घी का प्रयोग सर्वथा वर्जित है | रोगी को नमक का सेवन बिल्कुल ही बंद कर देना चाहिए | उसे लगभग 25 दिनों तक केवल बेसन की रोटी और घी ही खाना चाहिए |


पूरक इलाज


इस रोग का मुख्य इलाज ही रोग को समाप्त करने के लिए काफी है , पन्तु यदि साथ में यह पूरक इलाज भी कर लिया जाए तो रोग को निर्मूल करने मे औषधि आसानी से आसानी से अपना काम कर पाती है |


रोगी को चाहिए कि बाजार से लगभग 50 ग्राम मूली के बीज ले आए , और उन्हें गन्ना के शुद्ध सिरका में पीसकर उसमें थोड़ा सा संख्या मिलकर लेप तैयार कर ले | लेप बनाने का यह काम शाम को करना चाहिए | लेप बनने के 2 घंटे बाद इसमें खमीर उठ जाएगा | अब दागों को किसी कपड़े से मल कर खमीर को दागों पर लगा लिया करें | इसके तुरंत बाद ही सोने का उपक्रम करते हुए सो जाए | इसके निरंतर प्रयोग से रोगी का रोग आराम से समाप्त हो जाता है |


कुष्ठ एक प्रकार का घृणित रोग तो है ही , तथा बुरा रोग भी है , जिससे रोगी का सौंदर्य नष्ट हो जाता है | इसके दाग दिन-प्रतिदिन बढ़ते ही जाते हैं | इसलिए इस रोग का इलाज अगर प्रारंभिक अवस्था मे ही उपचार कर लिया जाए तो रोग को आसानी से ठीक किया जा सकता है | अपनी चरमावस्था को पहुंचा हुआ रोग बड़ी ही मुश्किल से ठीक हो पाता है , अर्थात भयंकरता की स्थिति मे औषधियों का असर नहीं हो पाता है , या फिर बड़ी देर से होता है | इसलिए रोगी तथा उसके हितैषियों को चाहिए कि वह इस रोग की चिकित्सा , रोग का पता लगते ही तुरंत शुरू कर दे |


जय आयुर्वेद



web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…