Skip to main content

धर्म ; मंत्रों में है अद्भुत शक्तियां

धर्म ; मंत्रों में है अद्भुत शक्तियां
----------------------------------------------
web - gsirg.com
helpsir.bligspot.in
10 - 04 - 2018
------------------------------------------------------------------------
हमारे प्राचीन ऋषि मुनि अनेक मंत्रों की जानकार थे , वह मंत्रों की सहायता से आश्चर्यजनक परोपकारी और जनहित के कार्य किया करते थे | आज इसी संबंध में हम कुछ जानकारी प्राप्त करेंगे | मंत्रों की शक्ति भौतिक शक्तियों से बढ़कर सूक्ष्म और सामर्थ्यवान होती है | यही कारण रहा है कि प्राचीन काल के ऋषियों मनीषियों और योगियों आदि ने मंत्रों की शक्तियों से पृथ्वी लोक , देवलोक और ब्रह्मांड की अनंत शक्तियों पर विजय पाई थी |

मंत्रों का व्यापक प्रभाव और सामर्थ्य

मंत्रों में अनेकों प्रभावी तथा सामर्थ्यवान शक्तियां निहित है | यही कारण है कि , प्राचीन काल के ऋषि मुनि मंत्रों के उपयोग से ही अपनी इच्छा के अनुसार किसी पदार्थ का स्थानांतरण कर सकते थे | मंत्रों की शक्ति आज भी विद्यमान है | अगर आज भी कोई व्यक्ति मंत्रों की स्थिति को अपने अंदर समाहित कर लेता है , तब उसको अनेक सामर्थ्यवान शक्तियां मिल जाती हैं , जिससे वह अपनी इच्छा अनुसार जनहित के अनेकों कार्य कर सकता है | उसके अंदर पदार्थों को ऊर्जा में और ऊर्जा को पदार्थों में बदलने की अदभुत शक्ति प्राप्त हो जाती है | हम प्राचीन काल से ही श्राप और वरदान 2 शब्द सुनते आए हैं | यह दोनों ही शब्द मंत्र के ही अनुदान हैं | आज भी लोग मंत्र की शक्ति से बिच्छू ,सांप आदि आज के काटने और अनेको बीमारियों का इलाज मंत्रों से करके पीड़ित रोगी का इलाज किया कर उसे ठीक किया करते हैं | इसके अलावा भी कई अन्य रोगों के इलाज मंत्र शक्ति के द्वारा आज भी किए जा रहे हैं |

मंत्रों के आश्चर्यजनक प्रभाव

मंत्रशक्ति का ज्ञाता कोई भी व्यक्ति रोगियों को ठीक तो कर ही देता है , इसके अलावा वह दूर , बहुत दूर हो रहे क्रियाकलापों को भी मंत्र शक्ति से जान लेता है | अंतरिक्ष में स्थित समस्त ग्रह नक्षत्रों की जानकारी मंत्रों के द्वारा प्राप्त की जा सकती है | इसके अलावा मानवीय काया में समाहित शक्तियों का ज्ञान व नियमन मंत्र शास्त्र से ही संभव है | इसी का परिणाम है कि भारतीय तत्व दर्शन में मंत्र शक्ति पर जितने प्रयोग किए गए हैं या आज भी अल्प रूप में किए जा रहे हैं , उतने शोध किसी अन्य विषय पर नहीं हुए है |

किस प्रकार कार्य करती हैं मंत्र शक्तियां

हमारे देश तथा अन्य देशों में भी मंत्रों के विषय में अनुसंधान हो रहे हैं | अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार मंत्र शक्तियों से भारी पत्थरों पर ध्वनि तरंगों को केंद्रीभूत करके उनके आसपास कम दबाव वाला क्षेत्र [ लो प्रेशर जोन ] का निर्माण किया जाता है | इस '' लो प्रेशर जोन '' के कारण पत्थर के नीचे का वायुमंडलीय दबाव उसे ऊपर उठा देता है , इसके उदाहरण तिब्बत के अनेकों मठों के निर्माण में वह किया गया है , ऐसा माना जाता है | ऐसा माना जाता है कि '' पेरू '' नामक देश में स्थित '' माचू पिचू '' जो एक प्राचीन शहर है , इसका निर्माण भी इसी प्रक्रिया के अनुसार किया गया है | इससे इस धारणा को बल मिलता है कि मंत्रों की शक्ति के प्रभाव से न केवल सूक्ष्म बल्कि अनेकों बड़े-बड़े परिवर्तन आसानी से किए जा सकते हैं |

मंत्र ज्ञानियों का विचार

मंत्र मंत्र ज्ञानियों का कहना है कि यदि कोई व्यक्ति एक ही मंत्र की बार-बार पुनरावृति करता रहे , ऐसा करते रहने पर , उच्चारण करने वाले व्यक्ति के बाहरी और भीतरी वातावरण में एक प्रकार का शून्य गुरुत्वाकर्षण पैदा हो जाता है | जिसके कारण मन में स्थित बाहरी और भीतरी कलुषित कलिमाओं का एक प्रकार का जो दबाव , समूची काया को दबाए हुए था , उससे उसे मुक्ति मिल जाती है | इन त्रुटिपूर्ण कलिमाओं का अवांछित दबाव जब मन से हट जाता है , तब उस व्यक्ति के शरीर में स्थित सूक्ष्म चेतन शक्तियां ऊर्ध्वमुखी हो जाती हैं | यह शक्तियां धीरे-धीरे विकसित होकर परम उच्चता तक पहुंच जाती हैं | जिसके कारण सामान्य दिखने वाला व्यक्ति भी महामानव या सिद्धपुरुष प्रकार प्राणी बन जाता है |
इंफ्रासोनिक स्तर की सूक्ष्म ध्वनियों से सम्भव है

शोधकर्ताओं ने तिब्बत के मठ वासियों का उदाहरण देते हुए बताया कि ध्वनियों के माध्यम से वह लोग किस तरह से जमीन पर स्थित बड़ी-बड़ी पत्थर की शिलाओं को हवा में ऊपर उठा कर मठों का निर्माण किया करते थे | ऐसा करते समय वे मठ से काफी दूर , डेढ़ मीटर आयत के भारी पत्थरों को वहां के भारवाहक पशु '' याक '' द्वारा ढ़ोकर पठारी क्षेत्र में इकट्ठा कर लिया करते थे | बाद में उन पत्थरों को एक कटोरे के आकार में बना लेते थे | यह पूरा आकार भवन से दूर बनाया जाता था , तथा इसके कुछ पीछे इसी आकार में बहुत से मठवासी विभिन्न वाद्य यंत्रों को लेकर पुरोहितों और संगीतज्ञों के साथ इन पत्थरों को घेर लेते थे | इसके बाद प्रधान पुरोहित का आदेश मिलते ही संगीत प्रारंभ किया जाता था , तदुपरांत काफी वजनी ध्वनिविस्तारक ड्रमों को पीटा जाता था | इससे कुछ ऐसी ध्वनियाँ निकलती थी कि , पर्वत शिलाओं का गुरुत्वाकर्षण बल और वायुमंडलीय दबाव कम होने लगता था | जिसके प्रभाव से पत्थर हवा में उठने लगते थे , बाद में इन शिलाओं को उठाकर दूरी पर स्थित भवन के ऊपर स्थापित कर दिया जाता था | प्राचीन काल में लोगों को मंत्रों का ज्ञान बहुत अधिक था , लेकिन धीरे-धीरे लोगों की रुचि इस ऒर कम होती गई , या जो भी कारण बने हों मंत्र शक्तियों को कुछ ही लोगों द्वारा प्रयोग किया जाता रहा | आज स्थिति यह है कि कुछ ही मंत्र शेष बचे हैं फिर भी इन मंत्रों में आश्चर्यजनक शक्तियां अभी भी विद्यमान हैं जिनसे असम्भव लगने वाले कार्यों को आज भी आसानी से किया जा सकता है | उपरोक्त जानकारी के उपरान्त मंत्रों मे अनेकों छिपी आश्चर्यजनक शक्तियां निहित हैं , इसको मानना ही पड़ता है |

इति श्री

web - gsirg.com
helpsir.bligspot.in

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…