Skip to main content

इलाज ; भयानक कर्कट रोग कैंसर

Web - gsirg.com
इलाज ; भयानक कर्कट रोग कैंसर
इस संसार में प्राणलेवा रोगों में अनेक रोगों का नाम लिया जा सकता है जैसे HIV पॉजिटिव होना , डेंगू , ब्लडप्रेशर , चेचक और कैंसर आदि | इन सभी मारक रोगों में कैंसर का महत्वपूर्ण स्थान है | यह एक दुष्ट रोग है , तथा जिस भी प्राणी को यह रोग हो जाता है , उसे अपने जीवन का अंत निकट दिखाई पड़ने लगता है | क्योंकि अभी तक पूर्ण रूप से इस के सफल और सटीक इलाज की खोज नहीं हो पाई है | केवल आयुर्वेद ही इसकी सफल चिकित्सा करने में पूरी कामयाबी हासिल कर सका है | आज हम इस रोग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे , और उसके सफल इलाज का वर्णन भी करेंगे |
कारण
आयुर्वेद में कैंसर को बड़े ही सूक्ष्म रूप में इसका सफल अध्ययन किया है | आयुर्वेद में कैंसर को रक्तार्बुद के नाम से जाना जाता है | पहले इसे असाध्य रोग माना जाता था | इस रोग की सही जानकारी होने पर रोगी परेशान होकर इस संसार से जाने की तैयारी करने की सोचने लगता है | प्राचीन समय में इस रोग के रोगी '' न '' के बराबर मिलते थे , परंतु आजकल इसका उग्र रूप सामने आ रहा है | इसका प्रमुख कारण है, लोगों का ''प्रकृति के विपरीत '' आचरण करना , तथा शरीर में हो रहे अस्वाभाविक परिवर्तनों पर ध्यान न देना है | रोग के आरंभ में शरीर में एक साधारण सी गांठ होती है | जिस पर लोग ध्यान नहीं देते हैं | बाद में इसका नजरंदाज करना उसे भारी पड़ जाता है | लंबे समय के उपरांत जब इस गांठ का परीक्षण किया जाता है तब उस व्यक्ति ने का पता चलता है कि उसे कैंसर रोग चुका है |
कैंसर के प्रकार
इस रोग के परीक्षण हेतु आधुनिक चिकित्सक सूक्ष्मदर्शी यंत्र द्वारा या फिर अन्य रासायनिक परीक्षणों द्वारा इस रोग की जानकारी प्राप्त करते हैं | उन्होंने कैंसर को दो प्रकारों में बांटा है | पहली प्रकार के कैंसर को बेनाइन या निर्दोष कैंसर कहते हैं , तथा दूसरे प्रकार के कैंसर को मैंलिगनेंट या घातक कैंसर कहते हैं | इनमें से पहले प्रकार के रोगियों की चिकित्सा करने पर सफलता प्राप्त हो जाती है | लेकिन दूसरे प्रकार के रोगी असाध्य होते हैं | इसप्रकार के रोगियों के उपचार का तरीका भी जटिल होता है | इस रोग में चिकित्सक को पहले यह पता लगाना पड़ता है कि रोग किस स्तर पर है | चिकित्सा से प्रारंभिक स्तर का रोगी ठीक हो सकता है , परंतु दूसरे और तीसरे प्रकार के रोगी को ठीक करना लगभग असंभव होता है |
लक्षण
कैंसर के लक्षणों के आधार पर ही प्रारंभिक अवस्था में यह जाना जाता है कि रोगी के शरीर में कहीं पर गाँठ है या नहीं | यदि शरीर में कोई गांठ है जो ज्यादा समय से है और ठीक नहीं हो रही है तो कैंसर हो सकता है | इसके अलावा रोगी में रक्त कणिकाओं की कमी , दुर्बलता की वृद्धि तथा बेचैनी की वृद्धि भी परिलक्षित होती है | इस रोग में व्यक्ति के वातावरणीय कारक और दूषित रहन-सहन का परिवेश भी जिम्मेदार है | इसीलिए हर स्थान पर इसरोग के एक जैसे लक्षण पाया जाना नहीं देखा गया है | प्रारम्भ में इस रोग में प्रमुख रुप से जीभ , स्तन , तालु , दांत , नाक , आंख , अन्ननलिका , पेट , स्त्री जननेंद्रिय , पैर की उंगलियों और चमड़ी आदि प्रभावित होती है | आयुर्वेद में इस रोग की उत्पत्ति का कारण मिथ्या आहार-विहार तथा प्रज्ञापराध को माना है | धूम्रपान , मदिरापान और तरह-तरह के नशे भी इसका कारण हो सकते हैं | इसलिए रोगी को इनका उपयोग तुरंत ही बंद कर देना चाहिए |
अनुभूत और परीक्षित इलाज
इस रोग के रोगी को चाहिए कि वह प्रतिदिन देसी गाय का मूत्र इकट्ठा करें | इस मूत्र को किसी 8 परत वाले सूती कपड़े से छानकर साफ करें | इसके बाद इसकी लगभग एक कप मात्रा प्रातः पी लिया करे | इसी प्रकार शाम को भी एक कप पी लिया करें | इस बात को गांठ बांध लें गाय का मूत्र कोई ऐसी वैसी चीज नहीं है | यह एक चमत्कारिक औषधि भी है | कैंसर पीड़ित व्यक्ति के शरीर में एक तत्व की विशेष रुप से कमी हो जाती है | इस तत्व को करक्यूमिन कहा जाता है | जिसकी प्रचुर मात्रा गाय के मूत्र में मौजूद होती है , जो कैंसर रोग की जड़ों को ही नष्ट कर देती है | करक्यूमिन तत्व केवल गाय के मूत्र में या फिर हल्दी में ही पाया जाता है | इसलिए गाय का मूत्र पीने में बिल्कुल हिचक न करें | लोग तो इससे भी बेकार जायके वाली और दुर्गंध तथा सड़ांध से परिपूर्ण मदिरा को केवल मनोरंजन के लिए पी जाते हैं | पर आप तो चिकित्सा कर रहे हैं , आपको तो भयंकर जानलेवा बीमारी से छुटकारा पाना है , फिर ऐसे आपको पीने में क्या कष्ट है | थोड़ा सा धैर्य धारण करें , मन की गंदगी साफ करें , और इसे जीवन अमृत समझ कर पी लें | यह औषधि तो आप का कष्ट हरण करने वाली है | इसलिए कोई झिझक , बिना किसी हीलहुज्जत के इसका सेवन कर ही लें | इस हेतु किसी प्रकार का विचार बिल्कुल ही न करें | आप पूरा विश्वास करें कि आपको इस औषधि से ठीक होना ही है | कैंसर आप का कुछ नहीं बिगाड़ सकता है | उसे तो ठीक होना ही पड़ेगा | हाँ अगर आपको शरीर को गोमूत्र से ज्यादा प्यार करते हैं तो इसे बिलकुल ही न पियें और किसी भी मरने के लिए तैयार रहें , क्योंकि मौत तो आपका इन्तजार कर ही रही है | अपने जीवन ,मरण का फैसला तो आपको ही करना है | यह एक ऐसा नुस्खा है जिसे अनेकों लोगों पर अपनाया जा चुका है तथा इसके सफल परिणाम भी मिले हैं |
पूरक चिकित्सा
उपरोक्त चिकित्सा से आपका ठीक होने की गारंटी लेता है | पर यह औषधि करने के साथ ही रोगी को चाहिए कि वह रात में सोते समय 7 से 10 ग्राम पिसी हल्दी का चूर्ण मुंह में डालकर धीरे-धीरे उसे पेट के अंदर करता जाए | इस प्रक्रिया में उसे लगभग 15 मिनट लगाना चाहिए | आप चाहे तो प्रारंभ हमें इसकी कम मात्रा लेकर के करके इसे खाने का अभ्यास करें , बाद में पूरी मात्रा का सेवन करते रहें | [ यह आपकी इच्छा पर निर्भर करता है की आप पूरक इलाज करें अथवा न करे , तो आप केवल से ही हो जायेंगे ] अगर आपको मृत्यु के मुख से बचना है तथा कैंसर पर विजय पानी है तो , आपको यह करना ही होगा इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता भी तो नहीं है | यदि आप पूरी लगन और श्रद्धा के साथ इस औषधि का प्रयोग करते हैं तो आप का कैंसर पर विजय प्राप्त करना निश्चित है |


जय आयुर्वेद


Web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…