Skip to main content

इलाज ः चेचक

Web -gsirg.com

चेचक
एक संक्रामक बीमारी है , जो छोटे और बड़े सभी उम्र के लोगों को हो जाया करती है | लोगों की धारणा है कि यह दशा माता जी की कृपा से होता है | हमारे देश में इसके फैलने को धार्मिक दृष्टिकोण से भी बड़ा महत्व दिया जाता है | जबकि ऐसा है नहीं , इस परेशानी को धार्मिक दृषिकोण सके नजरिये से देखना पूरी तौर से एकदम सही नहीं कहा जा सकता है | बहुत से लोगों में यह भ्रांति है कि पीड़ित को यह परेशानी उसके दुष्कर्मों का फल है | मनुष्य के दुष्कर्म के परिणामस्वरुप माता का प्रकोप होता है | माता के प्रकोप के कारण ही दुष्कर्म उसके शरीर में दाने बन कर उभर रहे हैं | इस रोग को देवीमाता का प्रकोप मानकर लोग विशिष्ट प्रकार का व्यवहार भी करते हैं | यहां तक कि लोग उसकी चिकित्सा भी नहीं करते |
दुष्ट संक्रामक रोग है यह
आधुनिक समय में आयुर्वेदिक विद्वानो के अनुसार इस रोग की उत्पत्ति का कारण , वायु , जल और पृथ्वी का दूषित होना है | पाश्चात्य चिकित्सा में इसे इसे जंतुजन्य संक्रामक व्याधि कहा गया है | दोनों ही चिकित्सा पद्धतियों में इस रोग के निवारण की अपनी-अपनी विधियां हैं | जिनके अनुसरणकर रोगी की चिकित्सा की जाती है | इस रोग की पाश्चात्य चिकित्सा बहुत ही कष्टकारक है | प्रायः इसी कारण से लोग इस उपयोग कम करते है | आयुर्वेदिक चिकित्सापद्धति में सरलता से इस रोग के निवारण का विधान बताया गया है |
भयंकरतम व्याधि
इसके विषय में इतना ही लिखना पर्याप्त है यह दुनिया की भयंकर व्याधियों में से एक है | इसके एक बार के हो जाने पर रोगी के सारे शरीर में दाने निकल आते हैं | यह दाने रोग के निवारण हो जाने के उपरांत भी बने रहते हैं | इस रोग के होने के परिणामस्वरुप रोगी के स्वास्थ्य और सौंदर्य को बहुत हानि पहुंचती है | उसका चेहरा बीमारी के उपरांत कुरूप हो जाता है | इस बीमारी का शिकार बना व्यक्ति बहुत ही कठिनाई से ठीक हो पाता है | इलाज के बाद ठीक हो जाने पर भी वह अपने कुरूप चेहरे के कारण हीन भावना का शिकार हो जाता है | जिसके कारण वह समाज में बैठने से कतराता भी है | अपने बदसूरत चेहरे को लेकर बेचैन भी बना रहता है | इससे उसके मनोमष्तिष्क़ में बनी एक प्रकार की मानसिक अशांति और हीन भावना उसके शेष जीवन में बनी ही रहती है |
रोग की प्रारंभिक अवस्था
सर्वप्रथम जब चेचक की विषाक्त जीवाणु शरीर में प्रवेश कर जाते हैं | उस समय रोगी में कोई विशेष लक्षण नहीं दिखाई देते हैं | कुछ समय बीत जाने के बाद कभी-कभी शरीर में सुस्ती बना रहना , सिर में भारीपन , बदन मे थोड़ा थोड़ा दर्द बना रहना , बदन दर्द , बदहजमी और कभी-कभी गले में भारीपन भी महसूस होता है | इसके अलावा रोगी को अचानक छींक आना , बुखार चढ़ जाना , शरीर में खुजली होना , चक्कर आना , भोजन के प्रति अरुचि , बेचैनी , शरीर टूटना और त्वचा का रंग बदल जाना आदि लक्षण परिलक्षित होने लगते हैं | धीरे धीरे रोगी की त्वचा का रंग बदल जाना और आंखों में लाली होना इस रोग का प्रारंभिक और प्राथमिक लक्षण है |
गंभीर लक्षण
प्रारंभिक लक्षणों के होने के कुछ पश्चात रोगी में धीरे-धीरे रोगी में गंभीरतम लक्षण प्रकट होने लगते हैं | गंभीर लक्षणों के प्रकट होने पर ही लोगों को इसकी जानकारी हो पाती है | ऐसी अवस्था में सारे शरीर में हल्की सी जलन होती है | इसके बाद शरीर में दाने पड़ने लगते हैं | पहले यह दाने कहीं-कहीं होते हैं , बाद में पूरे शरीर में फैल जाते हैं | ऐसी अवस्था में रोगी अपने शरीर में बहुत ज्यादा गर्मी और मन में बेचैनी महसूस करने लगता है | रोगी के शरीर के दाने कभी कम और कभी बहुत ज्यादा कष्ट देने लगते हैं | यहां यह जान लेना भी आवश्यक है कि इस रोग की विभिन्न अवस्थाओं के विभिन्न नाम दिए गए हैं , जैसे [ एक ] खसरा या मीजल्स [ दो ] छोटी माता या चिकन पॉक्स [ तीन ] गौ माता या काऊ पॉक्स और [ चार ] बड़ी माता या स्माल पॉक्स |
चिकित्सा
रोग की चिकित्सा करने के लिए चिकित्सक को सर्वप्रथम यह जानना आवश्यक हो जाता है , कि रोगी को किस प्रकार की चेचक हुई है | उसी के अनुसार चिकित्सा भी की जाती है | यहां पर चेचक के प्रकार की जानकारी के अनुसार चिकित्सा से संबंधित जानकारी आप को दी जा रही है , इसे आप भी जाने और लाभ उठाएं |
खसरा
यह प्रायःछोटे बच्चों को हो जाया करता है | इसकी प्रारंभिक अवस्था में बच्चे को छींकें आना , तेज बुखार होना , आंखों में लाली होना आदि लक्षण पाए जाते हैं | जिस समय बच्चे को 104 डिग्री बुखार हो जाता है , प्रायः उसके तीसरे या चौथे दिन चेहरे पर लाल लाल निशान दिखाई पड़ने लगते हैं | यह निशान ही बाद में फुंसियों का रुप ले लेते हैं | इसके बाद में यह फुंसियां एक दूसरे से मिलकर सारे चेहरे और शरीर को लाल बना देते हैं | यह रोग होने के सातवें दिन से अपनेआप शांत भी होने लगता है | बुखार उतर जाता है | कभी-कभी गले की खराबी की शिकायत कुछ और दिनों तक हो सकती है | धीरे-धीरे चेचक के धब्बे अपने आप ही विलुप्त होते जाते हैं | और रोली स्वयं भी ठीक हो जाता है | इसलिए इसके इलाज की आवश्यकता ही नहीं होती है |
गो मसूरिका
यह बीमारी प्रमुख रूप से घर में पाली जाने वाली गायों को होता है | परंतु कभी-कभी इसका प्रकोप मनुष्यों में भी हो जाया करता है | चिकित्सा विज्ञानियों के अनुसार प्रायः यह रोग बहुत ही कम देखने को मिलता है , या फिर देखने को मिलता ही नहीं है | रउनके अनुसार इसका इलाज जानने की आवश्यकता भी नहीं है | विशेष परिस्थितियों में रोग की जानकारी हो जाने पर किसी योग्य चिकित्सक की सेवाएं ली जा सकती हैं | छोटी माता
इस प्रकार की चेचक का रोग 14 से लगातार 23 दिनों तक अपना प्रभाव दिखाता है | इस रोग की फुँसियाँ पहले कम मात्रा में होती हैं | कुछ समय के बाद यह शरीर के सभी अंगों में हो जाती हैं | जिससे छाती और पेट पर जलन उत्पन्न होती है | सबसे पहले चेचक की फुंसियां छाती और पेट पर होती हैं | बाद में शरीर के अन्य भागों पर हो जाती है | परंतु इस रोग का रूप भयानक नहीं होता है | इसलिए इसकी भी चिकित्सा कराने की आवश्यकता नहीं पड़ती है | इस प्रकार की चेचक से रोगी का चेहरा भी कुरूप नहीं हो पाता है | इस प्रकोप में कुछ उपद्रव ऐसे होते हैं जो थोड़ा बहुत कष्ट देने के बाद स्वयं ही शांत हो जाते हैं | इसलिए इस रोग की चिकित्सा भी आवश्यक नहीं होती है | इस रोग के साधारण उपद्रव इस प्रकार हैं , जैसे खांसी , गले में सूजन , आंख और खाल में सूजन , चक्कर आना और आंखों से कम दिखाई देना |
बड़ी माता
बुखार और कमर दर्द से प्रारंभ होने वाला यह रोग दूसरे या तीसरे दिन अपने आप बुखार को कम कर देता है , लेकिन लाल रंग की फुंसियां चेहरे पर दिखाई देने लगती हैं | इसके बाद शरीर का धड़ वाला भाग भी इस रोग से प्रभावित हो जाता है | चौथे और पांचवें दिन इन में मवाद आने लगती है | रोग के 9वे दिन के पश्चात फुँसियों पर पपडी पड़ जाती हैं | बाद में इन पपड़ियों का खुरंड उतरने लगता है | इस भयानक रोग की यह स्वाभाविक अवस्था है | इसके बाद रोगी अपने आप को स्वस्थ महसूस करने लगता है | कभी-कभी रोगी मे कुछ उपद्रव विकराल रूप धारण कर लेते हैं | जिससे उसकी मृत्यु भी हो जाया करती है |
चेचक निरोधक उपचार
प्रायः लोग इस रोग का उपचार नहीं करते हैं | इस रोग का रोगी भी धीरे धीरे अपने आप ही ठीक होता जाता है | अगर रोगी के चेहरे पर चेचक के दाग शेष रह गए हो , तो रोगी की फुँसियों का खुरंड लेकर उसे किसी चिकने पत्थर पर पानी के साथ घिसे | इसतरह जो लेप तैयार हो उसे चेचक के दागों पर लगा लिया करें | इससे दाग हल्के पड़ जाएंगे | इसके अलावा जिस बच्चे को चेचक होने के लक्षण प्रकट हो रहें हो तो दाने निकलने से पूर्व ही अपामार्ग की जड़ और हल्दी को पानी के साथ चंदन की तरह घिसकर रोगी के बीसों नाखूनों पर लगा दे | इसके अतिरिक्त एक तिलक मस्तक के बीचो-बीच , और एक जीभ पर भी लगा दे | इससे उस बच्चे को चेचक नहीं होगी | यह एक शर्तिया इलाज है |
बिगड़ी हुई चेचक का उपचार
इसके बावजूद भी यदि चेचक बिगड़ जाए तो लटजीरा की जड़ को शुद्ध पानी या गंगाजल के साथ किसी पत्थर पर घिसे | इस प्रकार से एक लेप सा बन जायेगा | इस लेप को किसी बर्तन में रखते जाएं | इस लेप को चेचक के दानों पर लगा देना है | यह लेप इतना प्रभावशाली है कि 2 घंटे के अंदर ही बिगड़ी या बैठी हुई चेचक उभर जाएगी , अर्थात चेचक के दाने बताशे की तरह ऊपर को फूल जाएंगे | हो सकता है कि इसके बाद रोगी का ज्वर बढ़ जाये | लेकिन इससे घबराएं नहीं, क्योंकि यह भी चिकित्सा का ही एक अंग है | इससे कोई हानि नहीं होने वाली है | इस दवा की 8 से 10 बूंदे रोगी को पिला देनी चाहिए | यह दवा केवल दिन में एक बार करनी चाहिए | इसके बाद किसी भी दिन दवा नहीं देना है | रोगी कुछ समय बाद अपने आप ठीक हो जाएगा
इसके अलावा चेचक रोकने के लिए अन्य उपाय भी हैं | क्योंकि विषय बड़ा हो चुका है। इसलिए अधिक वर्णन करना ठीक नहीं है | जब कभी मौका मिलेगा , तो इस विषय पर हम फिर आप को चेचक के बारे में बताएंगे |

जय आयुर्वेद


Web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…