Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2018

स्वस्थ्य सेवाओं की स्थिति

आदरणीय सम्पादक जी सादर प्रणाम।स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है।स्वास्थ्य, शिक्षा,सड़क किसी भी देश के विकास के मुख्य आयाम होते हैं।चिकित्सा सेवाओं की लगभग सभी लोगों की कभी न कभी जरूरत जरूर पड़ती है।अच्छी चिकित्सा सेवा से ही मृत्यु दर में कमी लाई जा सकती है।हमारे देश में प्रति व्यक्ति के हिसाब से सुयोग्य चिकित्सकों की भारी कमी है।चिकित्सा उपकरणों की भी स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है।जिला अस्पतालों में कीमती मशीनों की आपूर्ति है भी तो टेक्नीशियनों की कमी के से कीमती मशीनें धूल फांक रही हैं।चिकित्सा सेवाओं के विस्तार और सुधार की भारी आवश्यकता है।अशिक्षा और अल्प ज्ञान के कारण आज भी लोग बाबाओं, ओझाओं की शरण में ज्यादा जाते देखे जा सकते हैं।चिकित्सा सेवाओं की प्रचार, प्रसार की भारी जरूरत है।जिससे बाबाओं, ओझाओं की ठगी की दूकानें बन्द कराई जा सकें।जनता जागरूक हो सके। देहातों में सरकारी अस्पताल होते हुए भी अच्छे डाक्टर अपनी सेवाएं, नियुक्ति लेना पसंद नहीं करते हैं।जिनकी नियुक्तियां है भी वह भी रात्रि निवास तो कतई पसंद नहीं करते हैं।सरकार से निवेदन है कि प्रति गांव आबादी के हिसाब से …

भूमि आबंटन की सरकारी योजना

सरकार ने भूमिहीनों के लिए भूमि आबंटन योजना द्वारा भूमिहीनों के लिए कृषि योग्य भूमि आबंटित करके निश्चय ही बहुत ही अच्छा कार्य करती है।इसकी जितनी ही प्रशंसा की जाय कम है।लेकिन सिस्टम की कमी के कारण असली भूमिहीन इस योजना का लाभ पाने से वंचित ही रह जाते हैं।आजादी के बाद से कई बार भूमि आबंटन होने के बावजूद वास्तविक भुमिहीन आज भी भुमिहीन है।कारण यह है कि ग्राम पंचायतों द्वारा खुली बैठक में सादे प्रस्ताव पर ही सबके हस्ताक्षर करवा लिए जाते हैं।एक निश्चित धनराशि जमा करने वालों के नाम ही असली मनमाफिक प्रस्ताव में लिखे जाते हैं।चूंकि वास्तविक भूमिहीन धनराशि जमा करने में अक्षम होते हैं।लिहाजा अंतिम सूची में स्थान बनाने में विफल हो जाते हैं।जमीनें भूमि अभिलेखों में पिता के नाम ही दर्ज होती हैं।अतःउनके लड़कों को भूमिहीन बनाकर प्रस्तुत कर दिया जाता है।और यह तथाकथित भूमिहीन पट्टा पानें में सफल हो जाते हैं।इनमें प्रधान के चाटुकार,अधिक धन जमा करने वाले ही ज्यादा होते हैं।असली भूमिहीन न तो धन जमा कर पाते हैं,न ही प्रधान तक पहुंच बना पाने में सफल हो पाते हैं।निर्धन की पहुंच केवल भगवान तक ही होती है,भगवान…