Skip to main content

पाकिस्तान और चीन भारत के दो नापाक दोस्त



भारत का शत्रु नं.1चीन तथा पाकिस्तान शत्रु नं.2 भारत को दिन-रात मिटाने के दिवास्वप्न देखते रहते हैं।"मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है? वहीं होता है जो मंजूरे खुदा होता है।"चीन+ पाक का नापाक गठजोड़ है।भारत के दृष्टिकोण से दो दुश्मन देशों का एक साथ होना ज्यादा शुभ संकेत नहीं है।चीन चालाक देश है।पाकिस्तान धूर्त+क्रूर देश  है।दोनों का साथ होनें से भारत की रक्षा चिन्ता रेखाएं और गहरी हो जाती हैं।चीन भारत को घेरने के ही इरादे के साथ भारत के चारो दिशाओं के सटे देशों में सैनिक अड्डा नौसेना, जल सेना,थल सेना सभी सेना के अड्डे बनाने के काम में जुटा हुआ है।पाकिस्तान घुसपैठ कराने के नये-2 तरीके ईजाद करने के कार्य में अनवरत जुटा हुआ है।श्री नरेन्द्र मोदी सरकार विशेष कर सुयोग्य विदेश मंत्री सुषमा स्वराज जी अवश्य ही बधाई के पात्र हैं।विदेशों में पाकिस्तान को और चीन को नंगा करके रख दिया है।दोनों विश्व बिरादरी में अलग-थलग करके रख दिया है।फिर भी दोनों भारत का अहित करनें में तूले हुए हैं।डोकलाम,पाक चीन आर्थिक गलियारे जैसी परियोजनाओं को विराम दिलाने में मोदीजी की सरकार की विदेश नीति की जितनी भी सराहना की जाए कम है।चीन पाक रिश्तों में भी खटास आती जा रही है।लेकिन ड्रैगन अब पाक को कहीं न कहीं निगल न जाय।धोखा देनें के लिए चीन कूख्यात है।नेहरू जी "हिन्दी-चीनी भाई-भाई"की माला जपते रहे,स्कूलों में भी जपवाते रहे उधर चीन ने आक्रमण कर दिया।चीन से बहुत होशियार रहने की भारत को जरूरत है।

अब इमरान ने बातचीत का सिलसिला शुरू करने की पेशकश की है।लेकिन सीजफायर, रोकने, आतंकी घटनाएं रोकने के चाहे जितनें आश्वासन दे लेकिन सारे आश्वासन कोरे ही होंगे।किसी तरह का प्रस्ताव स्वीकार करने की कोई जरूरत नहीं है।ए दोनो शत्रु कभी भी भारत के मित्र नहीं हो सकते।हमारे गाँव देहातो में प्रचलित कहावत है-----"बैरी के बिरवा म लागैं बेल,बारू पेरे निकलै तेल,स्वान पान जो करै सुरुक्का तबौ न किहेव विश्वास तुरुक्का।"अर्थात यदि उपर्लिखित सारी अनहोनियों के बाद भी तुरुक का विश्वास नहीं करना चाहिए।अर्थात पाकिस्तान+चीन का विश्वास करना भारत को न ई चोट मिलने की सम्भावना प्रबल हो जाएगी।

दोनों दुश्मन देशों से विशेष सावधान रहने की जरूरत है।यह सहयोगी देश कभी भी नहीं बन सकते हैं।इनसे सावधान रहने माकूल जबाब दिए जाने की जरूरत है।

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…