Skip to main content

[ b14 ] आदिशक्ति मां भगवती की रूप निद्रा

gsirg.com
आदिशक्ति मां भगवती की रूप निद्रा
जिस प्रकार से हमारे धर्म ग्रंथों में पूजनीय देवी देवताओं के विभिन्न रूपों का वर्णन किया गया है | ठीक उसी प्रकार आदिशक्ति मां भगवती के भी अनेक रूपों का वर्णन किया गया है | मां भगवती की लीला कथाओं में उनके रूपों और प्रभाव का विस्तृत उल्लेख किया गया है | इन लीलाकथाओं में माता के अनगिनत रूपों का वर्णन किया गया है | इन्हीं में माता के एक रूप का नाम रूपनिद्रा का भी है | इसी रूपनिद्रा का वर्णन और विवरण इस लेख के माध्यम से किया जा रहा है | पाठकगण माता के इस रूप का ज्ञान प्राप्त कर उनकी कृपा प्राप्त करने की अभिलाषा पूर्ण कर सकते हैं |
\\ माता की रूपनिद्रा \\
जगतमाता मां भगवती के इस रूप को सभी नमन करते हैं | बताया जाता है , कि आदिशक्ति माता अपने इस रूप में संसार के सभी प्राणियों को शांति , विश्रांति तथा जीवन ऊर्जा का वरदान देती हैं | जो भक्त माता की भक्ति करते हैं , केवल वही माता की कृपा पाते हैं | इसके अलावा जो व्यक्ति माता से कोई लगाव नहीं रखते वह प्राणी अपने जीवन में माता की कृपा से वंचित रह जाते हैं | भक्त की भक्ति का प्रभाव जितना अधिक होता है माता की कृपा भी उसी के अनुरूप कम या अधिक हो सकती है | न्यूनतम कृपा पाने वाले प्राणियों को न विश्रांति मिलती है , और न ही उन्हें जीवन में शांति मिल पाती है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि माँ की कृपा न पाने से उसके शरीर में जीवन ऊर्जा की कमी हो जाती है | जीवन ऊर्जा की कमी के कारण ऐसे प्राणी सदा थकान और अवसाद से घिरे रहते हैं |
\\ जीवन ऊर्जा का प्रभाव \\
माता की कृपा के परिणामस्वरूप जिन भक्तों को माता की समुचित कृपा मिल जाती है | जिसके परिणामस्वरुप उनके शरीर में जीवन ऊर्जा का प्रवाह होने लगता है | यही कारण है कि वह अपने जीवन में सदा सुखी रहते हैं | इसके अलावा उन्हें आरोग्य का सौभाग्य भी प्राप्त होता है | मां की कृपा के इस सत्य को विज्ञान और अध्यात्म दोनों ही स्वीकार करते हैं | इसके विपरीत जिन लोगों पर मां की कृपा न्यून होती है , उनके जीवन में कठिनाइयां आती ही रहती हैं | क्योंकि उनके अंदर जीवनऊर्जा का प्रवाह भी न्यून ही होता है , जिसके कारण उनका जीवन , जीवन की कठिनाइयों में बीतता ही रहता है | न्यून जीवनऊर्जा प्राप्त प्राणी को शारीरिक बीमारियों , मानसिक क्लेशों तथा दुखों को भी उन्हें झेलना पड़ता है |
\\ साधना के विभिन्न मत एवं विभिन्न पथ\\
मां की स्तुति की इस सूक्त की महिमा का बखान कई स्थानों पर किया है | बताया जाता है कि इस रात्रिसूक्त से ही, इस सृष्टि का सृजन करने वाले ब्रह्मा जी ने तमोगुण की अधिष्ठात्री योगनिद्रा की स्तुति की थी | ब्रह्मा जी के रात्रिसूक्त नामक इस सूक्त की महिमा भी अपार है | आत्मज्ञानियों योगसाधकों और विद्वानों का मत है कि बालकों के निमित्त इस रात्रिसूक्त का पाठ करने से उन बालकों को निद्रा संबंधी दोषों का सामना नहीं करना पड़ता है | ऐसे बालकों को रात में बुरे बुरे सपने आना , नींद में चौकना आदि दोष नहीं होते हैं |
\\ रात्रिसूक्त का लोगों पर प्रभाव \\
ऐसा नहीं है कि रात्रिसूक्त से केवल बच्चों को ही लाभ होता है , बड़ी आयु के लोग भी जब श्रद्धा पूर्वक , पवित्र मन , से योगपूर्वक रात्रिसूक्त का स्तवन कर मां भगवती की भावना पूर्वक स्तुति करते हैं | तब उन्हें भी अनिद्रा जैसे रोग नहीं होते हैं | इसके अलावा उनके जीवन में सदा शांति और विश्रांति बनी रहती है | इसका कारण है कि मां भक्तों की भक्ति से प्रसन्न होकर उन्हें जीवन ऊर्जा का वरदान देती हैं | इस प्रकार ब्रम्हदेव के द्वारा दिए गए इस स्तवन सूत्र से मां भगवती योगनिद्रा प्रसन्न होकर उसका जीवन अपनी कृपा से सफल बना देती है | अध्यात्म ज्ञान के जानकारों का कहना है कि किसी विशेष उद्देश्य से की गई स्तुति से प्रसन्न होकर भगवती योगनिद्रा , भगवान के नेत्र , मुख , नासिका , बाहु और हृदय से बाहर निकलने लगती हैं , तथा साधक के उद्देश्य की पूर्ति करती हैं |
\\ योगनिद्रा का निवास स्थान \\
जब भी कोई प्राणी इस विद्या के अधीन होता है , या हो जाता है , उस समय सर्वप्रथम उसकी आंखें मूंदने लगती हैं | इसके बाद उसकी नाक से वायु का आवागमन धीरे-धीरे मंद पड़ जाता है | इन क्रियाओं के पश्चात साधक के बाहु भी शिथिल हो जाते हैं | इन क्रियाओं के संपूर्ण होने के बाद उसके हृदय के मध्य उसकी समस्त चेतना केंद्रित होने लगती है | भक्तों की ऐसी अवस्था को निद्रावस्था कहा जा सकता है | उसके जागरण के पश्चात उसकी नेतृत्व चेतना इन्हीं स्थलों से प्रबोध पाकर संतृप्त हो जाती है | इसके बाद भक्तों को अनायास ही माता की महिमा का ज्ञान होने लगता है | तत्पश्चात माता की कृपा पाकर उसका जीवन सफल और उच्च कोटि का हो जाता है | इसलिए प्रत्येक प्राणी को चाहिए कि वह मां की योगनिद्रा की भक्ति भी करें , जिससे उसे जीवन ऊर्जा की प्राप्ति हो तथा उसकी समस्त इच्छाओं की पूर्ति को |
\\ इति श्री

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…