Skip to main content

[ g14 ] आर्थराइटिस का इलाज



Gsirg.com
  [ g ] आर्थराइटिस का इलाज 
आर्थराइटिस एक वायु विकार है जिसकी उतपत्ति तब होती है जब शरीर की गंदगी जब जोड़ो मे जमा होती जाती है | वात रोग अचानक ही नहीं होता है , अपितु इसके पूर्व अनेक तीव्र रोगों की एक अटूट श्रंखला होती है | रोग होने से पूर्व। पीड़ित व्यक्ति को ज्वर जरूर रहता है | इसके अलावा पीड़ित द्वारा भोजन में अम्ल कारक पदार्थों का अधिकता से प्रयोग भी इस रोग के उत्पन्न होने का प्रमुख कारण होता है | अर्थराइटिस की समस्या से पीड़ित व्यक्तियों के लिए , जाड़े का मौसम अधिक कष्टदाई होता है , इसका कारण है कि यह वही दिन है जब घुटनों और अन्य जोड़ों के दर्द के मामले अधिकता से सामने आते हैं |

रोग होने के फौरी कारण

सर्दियों के दिनों में अचानक घुटनों के दर्द , जोड़ों के दर्द बढ जाने के कई कारण हैं | इन दिनों में जब मौसम का तापमान घटता है तब सामान्य दिनों की तुलना मे शरीर के जोड़ अधिक कठोर हो जाते हैं | इस कठोरता के कारण ही घुटनों में तेज दर्द होता है | जैसे-जैसे वातावरण के तापमान मे व्यापक परिवर्तन होता है , वैसे वैसे सूजन भी बढ़ती जाती है , जिसके कारण आसपास की नसों में घर्षण भी बढ़ता जाता है | यही कारण है कि घुटने मे दर्द और कड़ेपन का एहसास भी धीरे-धीरे बढ़ता रहता है |

दूसरा कारण

अर्थराइटिस के दूसरे कारणों मे थोड़ा-थोड़ा वातावरणीय कारक और थोड़ा थोड़ा मानवीय गतिविधियां शामिल हैं | इन्हेही हम सर्दियों में आर्थराइटिस के बढ़ने के दूसरे कारणों के रूप में जान सकते हैं | सर्दियों के घीरे धीरे बढ़ते रहने के कारण , रोगियों में धीरे-धीरे आलस्य आने लगता है | इसलिए पीड़ित लोग सुबह उठकर टहलना , व्यायाम करना और अन्य शारीरिक गतिविधियां भी कम कर देते हैं , या फिर बंद ही कर देते हैं , या फिर करते ही नही है | जिसके कारण घुटने समेत अन्य जोड़ों का गतिशीलन बंद हो जाता है | परिणामस्वरुप यह स्थिति जोड़ों के लिए समस्या पैदा करने का कारण बन जाती है |

रोकथाम

इस रोग से पीड़ित रोगियों को चाहिए कि वे ऐसी मुद्रा में न रहे , जिन से जोड़ों पर दबाव पड़ता हो जैसे , घुटनों की अर्थराइटिस मे व्यक्ति को चाहिए कि वे जमीन या फर्श पर उकड़ू न बैठें | उन्हें चाहिए कि वह अपने को ठंड से बचाने के लिए पर्याप्त ऊनी कपड़े पहने , ताकि प्रभावित जोड़ ठंड से बचे रहें | पीड़ित व्यक्तियों को चाहिए कि वह अपने प्रतिदिन के व्यायाम में शिथिलता न करें , और न ही झटके से अपनी क्षमता से अधिक बोझ उठाएं | यदि तकलीफ ज्यादा हो तो तुरंत चिकित्सक के पास जाकर इस विषय में उचित सलाह लें , तथा उसके द्वारा बताई गई औषधियों का नियमित रूप से सेवन करें | आमतौर पर रोगी खुद ही अपने दर्द से निजात पाने के लिए अपने आप ही पेनकिलर खरीद लेते हैं , और उनका सेवन करने लग जाते हैं | जिसे अनुचित ही कहा जाना चाहिए | बिना चिकित्सक की सलाह के किसी प्रकार का पेनकिलर प्रयोग न करें |

आयुर्वेदिक चिकित्सा

गठिया के रोगी को चाहिए कि वह अरंड की पौधे को खोज कर , उसकी जड़ को घर लाकर छाया में सुखा ले | पूरी तरह से सूखी हुई जड़ को कूट-पीसकर महीन महीन चूर्ण बना लें | इस चूर्ण की 6 ग्राम मात्रा को दिन मे 3 बार गिलोय के काढ़े के साथ सेवन किया करें |

गिलोय का काढ़ा बनाने की विधि

रोगी को चाहिए कि वह पर्याप्त मात्रा में नीम पर चढ़ी हुई गिलोय को घर ले आए | अब इसकी 20 ग्राम मात्रा लेकर 1/4 लीटर पानी मे उबालना शुरू करे जब पानी उबलते - उबलते 1/4 मात्रा में बचे तब उसे अरंड चूर्ण के साथ सेवन कर ले | यह काढा रोगी को हर बार नया बनाना पड़ता है |


पूरक चिकित्सा

रोगी को चाहिए कि इसके साथ ही पूरक चिकित्सा भी करता रहे | इसके लिए 20 ग्राम नमक , 30 ग्राम अजवाइन , 50 ग्राम सोंठ तथा 120 ग्राम हरड़ को कूट-पीसकर चूर्ण बना लें | इस चूर्ण की 6 ग्राम मात्रा सुबह और शाम , ताजे पानी के साथ सेवन करे | इससे गठिया रोग को ठीक होने में शीघ्रता होती है |

जय आयुर्वेद \\🔺🔻

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…